I have retired – What shall I do next?

2. Reboot. Reinvent. Rewire Managing Retirement in the Twenty First Century

So your time for retirement has come and you are wondering what to do next? Most of us do not plan for our retirement, putting off the difficult debate with oneself on the pretext that we will cross the bridge when we come to it.

Yet, inevitably, the time for superannuation arrives and we are ill prepared to face our life after. You have earned your leisure to enjoy the fruits of your work for the past 3 decades.

Yet you have to keep your mind and body active. Most people had started developing one interest or the other. Why should we be looking at any other options when so many already exist for us.

Write a book – It is generally believed that everyone has at least one book “inside” them. After I wrote my first book, dozens of friends and acquaintances told me that they too wanted to write but could not find the time. If you can think of nothing else to write, you have a lifetime of accumulated memories and experiences. Consider recording these memories in the form of a memoir that you can give to your grandchildren.

If you enjoy writing, now is the time to think of starting to write your book. There is no better way than writing a book to leave behind your legacy. Some people I know have started to record their life in video format. They record this on their smart phone and are building a library of their notes that can be left for posterity. Whatever the medium, remember that a lot of preparation is needed for this.

Learn a Language – Some friends have started to learn a language, an aspiration they have had since childhood but never found the time.

There is senior retired Brigadier I know who has made a post-retirement career in teaching Spanish. Not only is he keeping himself very busy but also he is interacting with a new group of people whom he would never have had an opportunity to in his earlier life. He now interprets from Spanish to English and travels to Spain as an interpreter.

Travel to places you have wanted to go to – I have met several couples who have decided to travel and see places that they were not able to visit during their working lives. The difference when they travel now is that they spend much more time in the city or country they wish to see. They read up much more about their destination and they try and take in as much of the local flavour instead of rushing through the visit and “ticking” off one more item on your list of countries to see.

While I was working, when we travelled on a vacation we were always in a hurry to see places since work pressures for both of us did not allow us to spend too much time in one city. Our standard excuse for rushing through was that we could always come back to see the places that we had seen and liked. Now when we travel, we spend at least one week in a country and try and take in as much as we can. Now our thinking is that we must see as much as we can because we will probably never come back again to this place.

There is a whole community of retired people in USA who have sold their homes and have decided to travel all over the world. They select a part of the world they want to see and then go and stay there for a few months. The amount of money they need is sent to them by their financial planner every month and varies based on which city they are living in. Of course, as US citizens, it is much easier for them to travel unlike us from India because of visa restrictions but we could do something similar in various parts of India that we have never visited. The prospect of living for a month in a city in some other part of India is very exciting.

Helping others – Becoming a Good Samaritan and helping people is usually not seen easily. It takes a lot of effort to reach out and help and most people see this help with a bit of cynicism.

Yet there are people who care, selflessly.

I met a retired General who had taken it upon himself to help the widows of deceased retired Army and other Defence services officers to sort out their paper work and to ensure that the documentation for pension and medical facilities was all proper. He was getting nothing in return but yet he felt he owed this to his “brother” officers after they passed away.

Back to college – There must be so many things that you aspired to learn through your college and you were never able to find the time. Did you ever think that you could do a research paper and get a PhD and add the title “Doctor” before your name? Now you can. If you want further education in any area of your choice, now is the opportunity because you have the time and you have the inclination. I met a person who had been passionate about mathematics but he had built a career in marketing. When he retired, he went back to university and obtained a doctorate in mathematics!

For most people so inclined, there is thrill in learning new things.

Become a Life / Executive Coach – You have developed many skills over your working life. This could range from excellence in sports or as an accountant or a lawyer to skills in music, arts, writing etc. you can easily start coaching classes for the adults and young adults in your home. Not only will this give you a sense of achievement and keep you busy, you may find that that you earn some money as well.

Learn to cook – I have been told that cooking can be a very therapeutic process as you create new dishes. Learn to cook.

Every conceivable recipe is now available on YouTube and if you want to surprise your spouse and family with some culinary delights, you no longer need to agonise on how to get started. Start with simple foods like making an omelet and gradually, as you understand the nuances of how long to simmer and how long to steam as well as how much spices will bring tears to your eyes and how much will be just right, you can start to invite your family and friends to sample your delights.

Planning your daily meals is a huge chore and if your spouse and you make this into a routine every morning, there will be communication between you and consensus on what you will eat at each meal!

Learn Music – Several people I know have started to learn a musical instrument. The piano, guitar and violin are generally some of the more popular instruments that people like to learn.

I too, had learned to play the Indian flute while I was in college but gave it up. I have now started playing the flute once again and this time, since I have more time, I am more determined to become proficient at playing my flute!

Read – I know a few friends who have taken to reading books, magazines, journals and newspapers with a passion. They have at least three books by their bedside and they are constantly reading and enriching themselves. They missed out on reading while they worked and I was pleasantly surprised to see that some of them actually finish several books every week. When they have time, they scour the bookshelves at the local book stores and buy whatever they like.

Get involved with Social Media and build your profile – There are many people who have started to engage with various social media platforms to share their experiences and to broadcast their views on diverse subjects. The freedom to be able to say what you wish to is empowering and exhilarating. This ability to express themselves on global public platforms keeps many individuals, engaged, occupied and busy.

At the same time I also met many retirees who categorically stated that they were afraid of using a computer so there was no question of using social media. When I tell them that my 87 year old father uses Facebook, WhatsApp and Twitter all the time, they back off with a nod that seems to suggest that they too will make the effort.

Keep a Pet – Some couples who enjoy pets have kept a dog who almost becomes like the new baby in the household. All their waking energy is spent looking after the dog and it gives them a great conversation opportunity with similar and like-minded couples.

I have seen social circles in condominiums evolve around pets. So much time is spent in talking about pets that it almost feels like we are talking about our kids and their achievements all over again!

Watch Television – With over 100 television channels, there are literally dozens of serials and information based channels to follow on a regular basis. You could have a challenge with your spouse who may want to watch news channels while you want to watch something else and I know of several homes that have had to acquire two televisions to ensure peace at home!

Pull out your old Stamp and Coin collections – Most of us would have stored away an old coin collection and an old stamp collection. For the lucky few you may have inherited a collection from your father. And I am reasonably sure that your children would not have had any interest in these collections.

So now is the time to arrange those coins and stamps. Every item you own can be checked and verified on the internet. You can also get prices for these on eBay. You may be pleasantly surprised to find a rare stamp or a rare coin in your collection that may make you a very wealthy person.

Play Golf and other games – Sports is an important part of retirement. This also helps you to stay fit and to exercise your muscles regularly. If you have been a sportsperson then it would be easy for you to continue some of the less intensive sports throughout your life after retirement but if you have not been a sportsperson, this is a good time to start a regimen of daily activity. Several people have taken to playing tennis at their local club or their condominium. This gives them the exercise as well as the ability to socialize with new and old friends.

Play Bridge, other card games – Some retirees have decided to devote their time to play bridge. They do this at different clubs and with separate partners so that they keep having a change on scene. On Sunday, they rest! Some of these bridge players are now playing competitive bridge at a national level.

Do nothing and feel guilt free – I know that the habits built over a 30 year career will take some time to break. One person who I met was very candid in stating that he had chosen to “do nothing”. Reading, napping, and daydreaming will have all the time they need in my retired life” he said. He spends a lot of time at the neighbourhood coffee shop where he meets new friends and sits for hours surfing the net while sipping coffee!

Or a combination of several of the activities listed above. This list is by no means exhaustive and there must be so many other activities that you can undertake.

Plan on ridding yourself of that nagging feeling of guilt if you do not put every minute to productive use. If you decide to sit in the balcony with coffee in your hand for the better part of the morning, so be it.

Happy retirement!

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies. A keen political observer, he is an Angel Investor and Executive Coach. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

सेवानिवृत्त हो गया – अब मैं क्या करूँ?

2. Reboot. Reinvent. Rewire Managing Retirement in the Twenty First Century

तो आपका सेवानिवृत्ति का समय आ गया है और अब आप सोच रहे हैं कि आगे क्या करना है? हम में से अधिकांश अपनी सेवानिवृत्ति को लेकर कोई योजना नहीं बनाते हैं, और बहाने बनाते हुए ख़ुद से कड़ी बहस करते रहते हैं कि जब होगा तब देखा जाएगा।

तब भी, अनिवार्यत: सेवानिवृत्ति का समय आता है और हम उसके बाद के अपने जीवन का सामना करने के लिए तैयार नहीं होते हैं। बीते तीन दशकों में मेहनत से काम करते हुए आपने अपने लिए यह फुर्सत का फल पाया है।

अब भी आपको अपना दिमाग और शरीर सक्रिय रखना है। अधिकतर लोग कोई न कोई रूचि विकसित करने लगते हैं। लेकिन हमें अन्य विकल्पों को क्यों देखना चाहिए जबकि हमारे पास पहले से ही कई विकल्प मौजूद हैं।

किताब लिखें –आम तौर पर यह माना जाता है कि हर किसी के “भीतर” कम से कम एक किताब छिपी होती है। जब मैंने अपनी पहली पुस्तक लिखी उसके बाद मेरे कई मित्रों-परिचितों ने मुझे बताया कि वे भी लिखना चाहते हैं पर उन्हें समय ही नहीं मिल पाता। यदि आप लिखने के लिए कुछ सोच नहीं पा रहे हैं तो आपके पास जीवन भर की संचित यादें और अनुभव तो हैं ही। अपनी इन यादों को संस्मरण की तरह एक जगह दर्ज करने का विचार कीजिए, जिसे आप अपने नाती-पोतों को दे सकें।

यदि आपको लिखना अच्छा लगता है , तो अब समय है कि आप अपनी किताब लिखने के बारे में विचार करें। अपनी विरासत पीछे छोड़ जाने का किताब लिखने से बेहतर कोई तरीका नहीं है। मैं ऐसे कुछ लोगों को जानता हूँ जिन्होंने वीडियो प्रारूप में अपना जीवन रिकॉर्ड करना शुरू किया है।

वे इसे अपने स्मार्ट फोन पर रिकॉर्ड करते हैं और अपनी टिप्पणियों को वाचनालय का रूप दे रहे हैं, जिसे आने वाली पीढ़ी के लिए छोड़कर जा सकें। माध्यम जो भी हो, याद रखें कि इसके लिए बहुत सारी तैयारी की आवश्यकता है।

कोई भाषा सीखें– कुछ दोस्तों ने कोई नई भाषा सीखना शुरू किया है, बचपन से उनकी यह आकांक्षा थी लेकिन इसके लिए उन्हें कभी समय नहीं मिला था।

मैं एक ऐसे वरिष्ठ सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर को जानता हूँ जिन्होंने सेवानिवृत्ति के बाद स्पेनिश भाषा पढ़ाने का करियर अपनाया है। इससे न केवल वे खुद बहुत व्यस्त रहते हैं बल्कि वे उन नए लोगों के समूह से भी जुड़ते हैं, जिनसे मिलने का इसके पहले उन्हें कभी मौका नहीं मिला था। अब वे स्पेनिश से अंग्रेजी में व्याख्या करते हैं और आए दिन दुभाषिया के रूप में स्पेन की यात्रा करते हैं।

उन स्थानों की यात्रा करें जहाँ आप जाना चाहते थे –मैं कई दंपत्तियों से मिला हूँ, जिन्होंने उन स्थानों की यात्रा करने और उन्हें देखने का फैसला किया है, जिन स्थानों की वे अपने कामकाजी जीवन के दौरान यात्रा नहीं कर पाए थे। अब यह अंतर आया है कि अब जब वे यात्रा करते हैं तो वे उस शहर या देश में अधिक समय बिता पाते हैं, जहाँ वे जाना चाहते थे। अब पहले वे अपने गंतव्य के बारे में पढ़ते हैं और अधिक से अधिक स्थानीय स्वाद का आस्वाद लेने का प्रयास करते हैं न कि इतने देशों को देख लिया पर “टिकिंग” करते हुए भागते चले जाते हैं।

जब मैं कामकाजी था, तब जब हम छुट्टियों में यात्रा करते थे तो हम हमेशा जगहों को देखने की जल्दी में  रहते थे क्योंकि हम दोनों पर काम का दबाव हमें एक शहर में ज्यादा समय बिताने की इजाजत नहीं देता था। हमारा यह बहाना तय होता था कि हम उन स्थानों को देखने दुबारा आ सकते हैं जो हमने अभी देखे हैं और हमें पसंद आए हैं। अब जब हम यात्रा करते हैं, तो हम उस देश में कम से कम एक सप्ताह बिताते हैं और जितना संभव हो उतना देख सकने की कोशिश करते हैं। अब हमारी सोच यह है कि जितना संभव हो हमें उतना देख लेना चाहिए क्योंकि शायद अब हम इस जगह पर फिर कभी वापस नहीं आ सकेंगे।

संयुक्त राज्य अमेरिका में ऐसे सेवानिवृत्त लोगों का पूरा समुदाय है जिन्होंने अपने घर बेच दिए हैं और दुनिया भर की यात्रा करने का फैसला लिया है। वे दुनिया के किसी ऐसे हिस्से का चयन करते हैं जिसे वे देखना चाहते हैं और फिर कुछ महीनों तक वहाँ जाकर रहते हैं। इसके लिए आवश्यक धनराशि उन्हें हर महीने उनके वित्तीय योजनाकार द्वारा भेज दी जाती है, जो इस बात पर निर्भर करती है कि वे किस शहर में रह रहे हैं। बेशक, अमेरिकी नागरिक होने से हमारे भारत के वीज़ा प्रतिबंधों की तुलना में उनके लिए यात्रा करना काफी हद तक आसान होता है, लेकिन हम भारत के विभिन्न हिस्सों में घूमकर बहुत कुछ ऐसा कर सकते हैं, जिन स्थानों को हमने कभी नहीं देखा है। भारत के किसी दूसरे हिस्से में एक महीना रहने की आशा बहुत ही रोमांचक है।

दूसरों की मदद करें –भला मानस बनकर लोगों की मदद करना अमूमन नहीं दिखता है। अपने दायरे से निकलकर दूसरों की मदद करने के प्रति बहुतेरे लोग नकचढ़े होते हैं।

तब भी ऐसे लोग हैं जो निःस्वार्थ भाव से सेवा करते हैं।

मैं एक सेवानिवृत्त जनरल से मिला था, जिसने अपना जीवन सेवानिवृत्ति के बाद मृत हुए जवानों की विधवाओं के लिए समर्पित कर दिया जबकि रक्षा सेवाओं के अन्य अधिकारी अपने कागज़ी कामकाजों और यह सुनिश्चित करने कि उनकी पेंशन और चिकित्सा सुविधाओं के सभी दस्तावेज उचित थे, में ही उलझे रहे। उस सेवानिवृत्त जनरल को बदले में कुछ नहीं मिला, लेकिन फिर भी उसने महसूस किया कि यह उसका गुज़र गए अपने “भाई” अधिकारियों के प्रति फर्ज था।

कॉलेज में लौटें– ऐसी कई चीजें ज़रूर होंगी जिनकी आपने अपने कॉलेज के माध्यम से सीखने की इच्छा की होगी और आपके पास उनके लिए कभी भी समय रहा होगा। क्या आपने कभी सोचा कि आप शोध पत्र तैयार कर सकते हैं और पीएचडी प्राप्त कर सकते हैं और अपने नाम के आगे “डॉक्टर” शीर्षक लगा सकते हैं? अब आप कर सकते हैं। यदि आप अपनी पसंद के किसी भी क्षेत्र में और अधिक शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, तो अब अवसर है क्योंकि अब आपके पास समय है और आपका उस ओर झुकाव है। मैं एक ऐसे व्यक्ति से मिला जो गणित विषय को लेकर दीवाना था लेकिन उसने विपणन में करियर बनाया था। जब वह सेवानिवृत्त हुआ, तो विश्वविद्यालय वापस गया और गणित में डॉक्टरेट प्राप्त की!

ज्यादातर लोग जो कुछ करने के इच्छुक है, उनके लिए नई चीजों को सीखने में रोमांच है।

जीवन के / कार्यकारी कोच बनें – आपने अपने कामकाजी जीवन में कई कौशल विकसित किए हैं। यह खेल में उत्कृष्टता या एकाउंटेंट (लेखापाल), वकील के रूप में या संगीत, कला, लेखन आदि में कौशल हो सकता है। आप अपने घर में वयस्कों और युवतर वयस्कों के लिए आसानी से कोचिंग कक्षाएँ शुरू कर सकते हैं। यह न केवल आपको कुछ करने की भावना देगा और आपको व्यस्त रखेगा, बल्कि आप पाएँगे कि इससे आप कुछ पैसे भी कमा सकते हैं।

खाना बनाना सीखें – मुझे किसी ने बताया है कि खाना बनाना बहुत ही चिकित्सीय प्रक्रिया हो सकती है क्योंकि आप नित नए व्यंजन बनाते हैं। खाना बनाना सीखिए। आमलेट बनाने जैसे आसान खाद्य पदार्थों से शुरू करें, धीरे-धीरे आपको वे बारिकियाँ समझ आने लगेंगी कि किस पदार्थ को कितनी देर उबालना है और कितनी देर तक भाप देनी है…कौन-से मसाले आँखों में आँसू लाते हैं और कितना अनुपात सही होगा, उसके बाद आप अपने दोस्तों-परिवार के लोगों को अपनी ख़ुशी बाँटने का न्यौता दे सकते हैं।

अपने दैनिक भोजन की योजना बनाना एक बड़ा काम है और यदि आप और आपके जीवनसाथी इसे हर सुबह नियमित रूप से करते हैं, तो आप दोनों के बीच संवाद होगा और आप हर भोजन में क्या खाएँगे इस पर आपसी सहमति बनेगी!

संगीत सीखें –मैं ऐसे कई लोगों को जानता हूँ जिन्होंने कोई न कोई वाद्ययंत्र सीखना शुरू किया है। पियानो,गिटार और वायलिन आमतौर पर अधिक लोकप्रिय वाद्य होते हैं जिन्हें लोग सीखना पसंद करते हैं।

मैं भी जब कॉलेज में था भारतीय बाँसुरी बजाना सीख रहा था लेकिन बाद में छोड़ दिया था। अब मैंने फिर से बाँसुरी बजाना शुरू किया है और इस बार, चूँकि मेरे पास अधिक समय है, मैं अच्छे से बाँसुरी बजा पाऊँ इसे लेकर अधिक दृढ़ संकल्पित हूँ!

पठन – मैं कुछ दोस्तों को जानता हूँ जिन्होंने जुनून के साथ किताबें, पत्र- पत्रिकाएँ और समाचार पत्रों को पढ़ना तय किया है। उनके बिस्तर के पास कम से कम तीन किताबें होती हैं और उन्हें वे लगातार पढ़ते हुए खुद को समृद्ध कर रहे हैं। जब वे काम करते थे तो किताबें पढ़ने से चूक गए थे और अब मैं यह देखकर सुखद हैरत में हूँ कि उनमें से कई वास्तव में हर हफ्ते कई किताबों को पढ़कर ख़त्म कर रहे हैं। जब उनके पास समय होता है, तो वे स्थानीय किताबों की दुकानों को खंगाल डालते हैं और जो कुछ भी पसंद आता है, उसे खरीद लेते हैं।

सोशल मीडिया में शामिल होकर अपना प्रोफाइल बनाएँ – ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने विभिन्न अनुभवों को साझा करने और विभिन्न विषयों पर अपने विचार प्रसारित करने के लिए विभिन्न सोशल मीडिया मंचों के साथ जुड़ना शुरू किया है। आप जो कहना चाहते हैं उसे कहने की आज़ादी आपको सक्षम बनाती है और आपके लिए प्राणदायी होती है। वैश्विक सार्वजनिक मंचों पर खुद को व्यक्त करने की यह क्षमता कई लोगों को व्यस्त, मशगूल और कार्यरत रखती है।

साथ ही साथ मैंने कई सेवानिवृत्त लोगों से मुलाकात की जिन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि वे कंप्यूटर का उपयोग करने से डरते थे इसलिए सोशल मीडिया का उपयोग करने का तो सवाल ही नहीं था। जब मैं उन्हें बताता हूँ कि मेरे 87 वर्षीय पिता हर समय फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर का उपयोग करते हैं, तो वे इस बात पर राजी होते हैं कि वे भी प्रयास करेंगे।

पालतू पशु रखिए – पालतू पशुओं से प्रेम करने वाले कुछ जोड़ें श्वान पालते हैं जो घर में लगभग नए बच्चे की तरह बन जाते हैं। उनकी सारी जागृत ऊर्जा कुत्ते की देखभाल करने में खर्च हो जाती है और इससे उन्हें ऐसे लोगों के साथ बातचीत का अवसर भी मिलता है जो उन्हीं की तरह समान विचार और सोच रखते हैं।

मैंने पालतू जानवरों के आसपास विकसित सम्मिलित अधिकार का सामाजिक दायरा देखा है। कितना सारा समय पालतू जानवरों के बारे में बात करने में बीत जाता है कि ऐसा लगता है कि हम अपने बच्चों और उनकी उपलब्धियों के बारे में फिर से बात कर रहे हैं!

टेलीविजन देखें – सौ से अधिक टेलीविज़न चैनलों के साथ, नियमित आधार पर अनुसरण करने के लिए सचमुच दर्जनों धारावाहिक और सूचना आधारित चैनल हैं। आपको अपने जीवनसाथी से चुनौती मिल सकती है जब आपमें से एक समाचार का चैनल देखना चाहता है जबकि दूसरा कुछ और… और मैंने कई घरों में देखा है कि घर में शांति बनी रहे इसलिए उन्होंने दो टेलीविज़न खरीद लिए हैं!

अपने पुराने स्टाम्प और सिक्के के संग्रह को बाहर निकालें – हममें से अधिकांश के पास पुराने सिक्कों और पुराने स्टाम्प का संग्रह हुआ करता था। आपमें से कुछ भाग्यशाली होंगे जिन्हें अपने पिता से यह संग्रह मिला हो सकता है और मुझे पक्का यकीन है कि आपके बच्चों को इन संग्रहों में कोई दिलचस्पी नहीं होगी।

तो अब यह उन सिक्कों और टिकटों को फिर से जमा करने का समय है। आपके पास मौजूद प्रत्येक वस्तु की आप इंटरनेट पर जाँच कर उसे सत्यापित कर सकते हैं। आप ई-बे पर जाकर इनकी कीमत भी प्राप्त कर सकते हैं। आप अपने संग्रह में दुर्लभ स्टाम्प या दुर्लभ सिक्के को पाकर सुखद आश्चर्य में पड़ सकते हैं और इससे आपको यह भी लग सकता है कि आप बहुत अमीर व्यक्ति हैं।

गोल्फ और अन्य खेल खेलिएँ – खेल सेवानिवृत्ति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह आपको ठीक-ठाक रखने और नियमित रूप से माँसपेशियों के अभ्यास कराने में भी मदद करता है। यदि आप खिलाड़ी रहे हैं तो आपके लिए सेवानिवृत्ति के बाद पूरे जीवन भर में थोड़े हल्के-फुल्के खेल जारी रखना आसान होगा, लेकिन यदि आप एक खिलाड़ी नहीं हैं, तो इसे दैनिक गतिविधि का नियम बनाकर शुरू करने का अच्छा समय है। कई लोगों ने अपने स्थानीय क्लब या सह-स्वामित्व के स्थान को टेनिस खेलने के लिए लिया है। यह उन्हें व्यायाम करने और नए और पुराने दोस्तों के साथ सामाजिक होने की क्षमता देता है।

ब्रिज या ताश के पत्तों का अन्य खेल खेलें – कुछ सेवानिवृत्त लोगों ने ब्रिज खेलने में अपना समय बिताने का फैसला किया है। वे अलग-अलग क्लबों और अलग-अलग भागीदारों के साथ खेलते हैं ताकि रोज़ कुछ नया अनुभव हो सकें। रविवार को, वे आराम करते हैं! इनमें से कुछ ब्रिज खिलाड़ी अब राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धी ब्रिज में भाग ले रहे हैं।

कुछ भी करें और अपराध मुक्त महसूस करें – मुझे पता है कि 30 साल के कैरियर में पड़ी आदत को बदलने में कुछ समय लगेगा। एक व्यक्ति जिससे मैंने मुलाकात की उसने बहुत स्पष्ट कहा था कि उसने “कुछ भी नहीं करने” का विकल्प चुना था। उन्होंने कहा पढ़ना, सोना और दिन में ख़्वाब देखना, मेरी सेवानिवृत्ति के बाद हर पल की इतनी ही आवश्यकता होगी। वे पास की कॉफी की दुकान में बहुत सारा समय बिताते हैं, जहाँ नए दोस्तों से मिलते हैं और कॉफी के घूँट पीते हुए घंटों नेट सर्फिंग करते रहते हैं!

या आप उपरोक्त सूचीबद्ध कई गतिविधियों का संयोजन कर सकते हैं। यह सूची किसी भी तरह से पूर्ण नहीं है और ऐसी कई अन्य गतिविधियाँ हो सकती हैं जिन्हें आप कर सकते हैं।

यदि आप हर मिनट का उत्पादक उपयोग नहीं कर रहे हैं तब भी अपराध की उस घबराहट भावना से खुद को मुक्त रखने की योजना बनाइए। यदि आप सुबह सुकूनभरे समय में बालकनी में कॉफी लेकर बैठे रहना तय करते हैं, तो वैसा कीजिए।

शुभ सेवानिवृति !

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं. वे ५ बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं.

  • ट्विटर : @gargashutosh                                      
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56                                      
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

Coalition Politics – What lies ahead?

180705 Coaltion Politics 2

Politics is the art of the impossible and no one recognises this opportunity better than all the political parties in India. Yesterday’s sworn enemies become today’s bosom buddies. Ideologies be damned. All the past vitriolic comments against one another are glossed over for the time being. Their dharma is simply “the end justifies the means.”

As the next general election draw closer, the age of coalition politics is back again.

Coalition governments have failed regularly and repeatedly in the past and yet they seem to be the only answer for the failing political parties who do not see any options for their own survival. These political parties know that the only way to a possible victory in the elections is to somehow pool their votes and their voters and cobble together a plan to defeat the powerful Bharatiya Janata Party which seems to have made a habit of winning elections.

The leaders of these parties assume that the Indian voter can once again be fooled into believing that these sworn political enemies have abandoned all their differences and agreed to come together in the interest of their states and only to further the interest of their voters!

Look at the coalition “arrangement” that came together in Bihar. Nitish Kumar and Laloo Yadav had always been at logger heads and yet they managed to convince the voters that they are willing to bury their differences and come together for the benefit of Bihar. Within a few months, cracks started to appear on the surface of these supposedly strong bonds. There was nothing in common between these two leaders and their parties. They came together on a “defeat BJP” platform and it is shameful that they were not able to stay together. The break up was waiting to happen.

The most unlikely coalition between the Samajwadi Party and the Bahujan Samaj Party, between Bua Mayawati and Bhatija Akhilesh Yadav came together for the recent bye-elections and once again managed to convince the voters of their long lost love with one another. Their success has encouraged them to announce that they will come together for the general elections. They may win a few seats as well but how long can their diverse ideology be covered up or set aside? What will happen when key handouts have to be shared like Rajya Sabha seats and lucrative Government positions? How soon will the claws be out again?

The communists do not like the Congress but they are willing to come together. The NCP of Sharad Pawar has always had differences with the Congress but these can be conveniently forgotten. The Shiv Sena has always fought elections with the BJP. One little weakness after the UP bye-elections encouraged them to try to go their own way and it is a matter of time before either they will seek an alliance with the Congress or come back to the BJP. Chandrababu Naidu walked out in a huff but his grand plans of bringing together a no-confidence motion came to naught. What next for him? Will he convince his voters again and come back to the NDA?

The Mahagathbandhan, before the next general elections is being discussed by all political parties. The challenge that needs to be addressed is that who will be announced as the leader to become the Prime Minister in the unlikely event this motley group manages to scrape through with a majority.

As a thinking individual, I shudder when I think of the following as one possible scenario of the future Government of the Mahagathbandhan.

Can we imagine a Government with Mayawati as the Prime Minister, Rahul Gandhi as the Deputy Prime Minister, Maran as the Finance Minister, Sharad Pawar as the Defence Minister, Mulayam Singh as the Foreign Minister, Mamata Banerjee as the Railway Minister and Laloo Yadav as the Home Minister?

Then there would be representatives of the smaller regional parties who would be given important ministerial berths. Imagine a cabinet with ministers from the Shiv Sena, the BJD, the TDP, the DMK and dozens of other parties. Each individual will bring the personal agendas of their party leaders with them and seek an early resolution of their own challenges and issues.

And, we must not forget that the frustrated BJP leaders like Yashwant Sinha and Shatrughan Sinha who are expected to work against the BJP in the next elections will also demand their pound of flesh and expect to be accommodated in the Council of Ministers!

Would this be a Coalition Government or a Collision Government?

Whichever way we look at it, the scenario is frightening.

Will Rahul Gandhi and his Congress party ever accept playing second fiddle to the regional satraps? Will all the other senior regional leaders accept Rahul Gandhi as their leader? Will all these leaders ever be able to sink all their differences? Or will they, in an ostrich like manner, take cover under the challenges of coalition dharma, much like Manmohan Singh did when he chose to ignore all the corruption in UPA 2?

The Government, under the leadership of Prime Minister Narendra Modi has delivered what they had promised. Forget all the interpretations that are being made by a few journalists who have, understandably, lost a lot of their prominence in this Government. Such journalists have to find something to criticise all the time and hope that some of their allegations will stick. Secularism and minority appeasement are subjects that people like to talk about.

Every economic parameter is significantly better than it was in 2014. India stands tall in the comity of nations around the World. India is now well positioned to take a leadership role in the World. Our borders are secure. Our foreign exchange reserves are at a record high. Our industry is working. Black money is under control. We are one of the few countries in the World with a single tax across the nation. There is not a single case of corruption against this Government.

The voter knows the benefit of a clear majority that brings a stable Government in the country. They understand and recognise what this Government has delivered at the centre and they have seen the substantial improvement in the infrastructure but they also know much more needs to be done. Bringing back regional parties who will fight one another at the centre will be a retrograde move and every voter recognises the vulnerabilities of such selfish alliances.

One five year term can never be enough to deliver on the promises by any well-meaning Government. Major structural changes have been done by this Government and the impact of these changes will be felt in the coming years. India is growing at record levels each year and is well positioned to grow at over 8% per annum in the next 5 years.

The BJP workers need to keep their head down and keep working closely at the ground level reasserting all the achievements of this Government. The BJP leaders need to learn to keep their mouths shut and stop making silly pronouncements on controversial topics. No matter how strong the urge to pontificate, these leaders would be well advised to simply say “no comments.”

The voters will bring back the BJP with a simple majority in the next elections and evaluate how the Government will deliver on the promises made.

The BJP and its leadership must not panic in the run up to the elections.

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies. A keen political observer, he is an Angel Investor and Executive Coach. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

गठबंधन राजनीति – इससे आगे क्या ?

180705 Coaltion Politics 2

राजनीति असंभव की कला है और इस अवसर को भारत के सभी राजनीतिक दलों से अधिक बेहतर और कोई नहीं जानता है। कल के कट्टर दुश्मन आज के जिगरी दोस्त बन जाते हैं। विचारधाराओं को शर्मिंदा कर दिया जाता है। एक दूसरे पर अतीत में की गई तीखी टिप्पणियाँ समय आने पर भुला दी जाती हैं। उनका धर्म केवल “अंत भला तो सब भला है।”

जैसे ही अगले आम चुनाव करीब आने लगते हैं, गठबंधन की राजनीति का दौर वापस आ जाता है।

गठबंधन सरकारें अतीत में नियमित रूप से और बार-बार विफल रही हैं लेकिन तब भी वे उन असफल राजनीतिक दलों के लिए वे एकमात्र उत्तर प्रतीत होती हैं, जिनके पास उनके अपने अस्तित्व को बचाने का और कोई विकल्प नहीं दिखता है। इन राजनीतिक दलों को पता है कि चुनावों में संभावित जीत का एकमात्र तरीका किसी भी तरह अपने मतों और मतदाताओं को साथ में लाना है और कहीं की ईंट, कहीं का रोड़ा इकट्ठा कर शक्तिशाली भारतीय जनता पार्टी को हराना है, जिसके लिए चुनावों में जीतना आदत-सी बन गई है।

इन दलों के नेताओं को लगता है कि भारतीय मतदाता को फिर एक बार मूर्ख बनाकर यह विश्वास दिलाया जा सकता है कि इन कट्टर राजनीतिक दुश्मनों ने अपने मतभेदों को त्याग दिया है और वे अपने प्रदेश या उससे भी आगे मतदाताओं के हित के लिए साथ आने पर राज़ी हो गए हैं!

बिहार में साथ आने की गठबंधन “व्यवस्था” का हश्र देखिए। नीतीश कुमार और लालू यादव हमेशा आपस में भिड़ा करते थे लेकिन फिर भी वे मतदाताओं के गले में यह उतारने में कामयाब हो गए कि वे बिहार के लाभ के लिए अपने मतभेदों को दफना कर साथ आने के इच्छुक हैं। कुछ ही महीनों में उनके इस तथाकथित मजबूत रिश्ते में दरारें दिखने लगीं। इन दोनों नेताओं और उनकी पार्टियों के बीच कुछ भी आम नहीं था। वे “भाजपा को हराने” के नाम पर साथ आए और बहुत ही शर्मनाक है कि वे साथ रह पाने में सक्षम नहीं थे। उनका संबंध विच्छेद होना तय ही था।

बुआ मायावती और भतीजे अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच में सबसे असंभव गठबंधन हाल के उप-चुनावों में हुआ और फिर एक बार वे एक दूसरे के लिए अपने लंबे समय से खोए प्यार का हवाला देकर मतदाताओं को मनाने में कामयाब रहे। उनकी सफलता ने उन्हें यह घोषणा करने के लिए प्रोत्साहित किया कि वे आम चुनावों के लिए फिर एक बार साथ आएंगे। वे कुछ सीटें भी जीत सकते हैं लेकिन उनकी भिन्न विचारधाराएँ उनका कब तक साथ दे सकती है या उन्हें अलग-थलग कर देती है? तब क्या होगा जब वे महत्वपूर्ण शासकीय ओहदे जैसे राज्यसभा की सीटें और आकर्षक सरकारी पदों को साझा करना चाहेंगे? साथ बंधी मुट्ठी तब कितनी जल्दी खुल जाएगी?

कम्युनिस्ट कांग्रेस को पसंद नहीं करते हैं लेकिन वे साथ आने को तैयार हैं। शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कांग्रेस के साथ हमेशा मतभेद रहे हैं लेकिन उन्हें आसानी से भुला दिया जा सकता है। शिवसेना ने हमेशा भाजपा के साथ चुनाव लड़ा है। उप्र. उप-चुनावों के बाद की एक छोटी-सी कमजोरी ने उन्हें अपना रास्ता तय करने के लिए प्रोत्साहित किया लेकिन यह तो समय बताएगा कि वे कांग्रेस के साथ गठबंधन की तलाश करेंगे या भाजपा में वापस आ जाएँगे। चंद्रबाबू नायडू बहुत आवेश में बाहर चले गए थे लेकिन अविश्वास प्रस्ताव लाने में ही उनकी भव्य योजनाएँ सिफर हो गईं। वे अब क्या करने वाले हैं? क्या वे फिर से अपने मतदाताओं को मना पाएँगे और एनडीए में वापस आएँगे?

महागठबंधन, जिसकी अगले आम चुनावों से पहले सभी राजनीतिक दलों द्वारा चर्चा की जा रही है। जिस चुनौती पर विचार किए जाने की ज़रूरत है वह यह है कि इस असंभव पंचमेल समूह  में किस नेता को संभावित प्रधान मंत्री के रूप में घोषित किया जाएगा जो बहुमत से गुजरने का प्रबंधन करता है।

व्यक्ति के रूप में जब मैं महागठबंधन के भावी शासन के संभावित परिदृश्य के बारे में निम्नलिखित तरीके से सोचता हूँ तो मैं काँप जाता हूँ।

क्या हम ऐसी सरकार की कल्पना कर सकते हैं जिसमें मायावती प्रधान मंत्री हो, राहुल गांधी उप प्रधान मंत्री, मारन वित्त मंत्री, शरद पवार रक्षा मंत्री, मुलायम सिंह विदेश मंत्री, ममता बनर्जी रेल मंत्री और लालू यादव गृह मंत्री?

फिर छोटे क्षेत्रीय दलों के प्रतिनिधि होंगे जिन्हें महत्वपूर्ण मंत्री पद दिए जाएंगे। ऐसे मंत्रिमंडल की कल्पना कीजिए जिसमें शिवसेना, बीजेडी, टीडीपी, द्रमुक और अन्य दलों के दर्जनों मंत्री होंगे। के साथ कैबिनेट की कल्पना करो। प्रत्येक व्यक्ति अपने साथ अपनी पार्टी के नेताओं के व्यक्तिगत एजेंडे लाएगा और अपनी चुनौतियों और मुद्दों के शीघ्र समाधान की तलाश करेगा।

और, हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा जैसे निराश भाजपा नेताओं के अगले चुनावों में भाजपा के खिलाफ काम करने के आसार हैं, वे भी अपने हिस्से की माँग करेंगे और मंत्रिपरिषद में शामिल होने की उम्मीद रखेंगे !

क्या यह गठबंधन की सरकार होगी या टकराव  की सरकार ?

हम इसे जिस तरह से भी देखें , परिदृश्य डरावना है।

क्या राहुल गांधी और उनकी कांग्रेस पार्टी क्षेत्रीय क्षत्रपों के इर्दगिर्द बैठना स्वीकार करेगी? क्या अन्य सभी वरिष्ठ क्षेत्रीय नेता राहुल गांधी को अपना नेता मानेंगे? क्या ये सभी नेता कभी भी अपने तमाम मतभेदों को दूर कर सकते हैं? या कि वे शुतुरमुर्ग की तरह गठबंधन के धर्म का पालन करेंगे और बाकी तमाम बातों को भुला देंगे जैसे कि मनमोहन सिंह ने यूपीए 2 के दौरान तमाम भ्रष्टाचारों को अनदेखा करने का मार्ग चुना था?

सरकार ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जितने भी वादे किए थे, उन्हें पूरा किया है। कुछ पत्रकारों द्वारा की जा रही सारी विवेचनाओं को भूल जाइए, जिन्होंने इस सरकार में अपनी प्रमुखता को काफी हद तक खो दिया है। ऐसे पत्रकार हर समय आलोचना करने के लिए कुछ न कुछ तलाशते रहते हैं और उम्मीद करते हैं कि उनके कुछ आरोप टिके रहे। धर्मनिरपेक्षता और अल्पसंख्यकों का अपमान ऐसे विषय हैं जिनके बारे में लोग बात करना पसंद करते हैं।

हर आर्थिक मापदंड में इसे वर्ष 2014 में की तुलना में काफी बेहतर बताता है। दुनिया भर के देशों की मंडली में भारत का कद ऊँचा हुआ है। भारत अब दुनिया में नेतृत्व की भूमिका निभाने के लिए अच्छी स्थिति में है। हमारी सीमाएँ सुरक्षित हैं। हमारे विदेशी मुद्रा भंडार उच्च रिकॉर्ड पर हैं। हमारे उद्योग-धंधे अच्छे चल रहे हैं। काले धन पर लगाम लग गई है। हम दुनिया भर के उन कुछ चुनिंदा देशों में से हैं जहाँ पूरे देश में एकल कर प्रणाली लागू है। इस सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार का एक भी मामला नहीं है।

मतदाता स्पष्ट बहुमत के लाभ को जानते हैं जिससे देश में एक स्थिर सरकार आती है। वे समझते और पहचानते हैं कि इस सरकार ने केंद्र में क्या बदलाव लाया है और उन्होंने बुनियादी ढांचे में पर्याप्त सुधार देखा है, लेकिन उन्हें यह भी पता है कि बहुत कुछ करने की जरूरत है। केंद्र में एक-दूसरे से लड़ने वाले क्षेत्रीय दलों को वापस लाना प्रतिकूल कदम होगा और हर मतदाता ऐसे स्वार्थी गठजोड़ की कमजोरियों को पहचानता है।

पाँच साल की एक अवधि किसी भी सरकार द्वारा किए गए वादों को अच्छी तरह से पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकती है। इस सरकार द्वारा कई प्रमुख संरचनात्मक परिवर्तन किए गए हैं और इन परिवर्तनों के प्रभाव आने वाले सालों में महसूस किए जाएँगे। भारत हर साल रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ रहा है और अगले 5 वर्षों में 8% से अधिक सालाना वृद्धि की अच्छी स्थिति में है।

भाजपा कार्यकर्ताओं को अपना मस्तिष्क शांत रखकर ज़मीनी स्तर पर कार्य करने की ज़रूरत है

सिर नीचे रखने और जमीन के स्तर पर बारीकी से काम करने की जरूरत है ताकि वे इस सरकार की सभी उपलब्धियों को दोबारा शुरू कर सकें। भाजपा नेताओं को अपना मुँह बंद रखने और विवादास्पद विषयों पर मूर्खतापूर्ण बयान करने से खुद को रोकना सीखना होगा। कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनकी कितनी मजबूत इच्छा प्रधान बनने की है, इन नेताओं के लिए भली सलाह यही है कि वे “कोई टिप्पणी नहीं” करें।

मतदाता अगले चुनावों में भाजपा को आसानी से बहुमत के साथ वापस लाएँगे और मूल्यांकन करेंगे कि सरकार किए गए वादों को किस तरह पूरा करती है।

भाजपा और उसके नेतृत्व को चुनावों में भाग लेने में घबराहट नहीं होनी चाहिए।

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं. वे ५ बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं.

  • ट्विटर : @gargashutosh                                      
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56                                      
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com