सेवानिवृत्ति और आपके जीवन साथी के साथ संबंध – भाग 1

171120 Retirement 1

जब आप सेवानिवृत्त होते हैं, आपका बॉस बदल जाता है। किसी समय आपका बॉस वह था जिसने आपको नौकरी दी थी, अब आपका बॉस वह होता है, जिससे आपने शादी की। किसी ने ठीक ही कहा है, शादी, उस शराब की तरह है, जो जैसे-जैसे पुरानी होती चली जाती है, उसका नशा वैसे-वैसे ही बढ़ता जाता है।

आपकी सेवानिवृत्ति की अवधि तक आपकी शादी के लगभग तीन दशक हो चुके होते हैं। आपको लगने लगता है कि आप एक-दूसरे को बख़ूबी समझने लगे हैं, वैसे भी उन दिनों आप अपने-अपने करियर में इतने व्यस्त रहते हैं कि वास्तव में आपके पास एक-दूसरे को देने के लिए उतना समय भी नहीं होता है। आप अपने पूरे वैवाहिक जीवन में एक-दूसरे की निजता का सम्मान करते हैं और कभी एक-दूसरे के आड़े नहीं आते, आप गंभीर मसलों को दबे-छिपे रहने देते हैं। अब आपको लगता है कि पिछले तीन दशकों से आप अपने साथी के साथ जिस तरह दिन के पूरे 24 घंटे बिताना चाहते थे, वह समय आ गया है लेकिन आप यह जानकर हैरत में पड़ जाते हैं कि जैसा आपको लगता था कि आप अपने साथी को पूरा जानते हैं, क्या आप वैसा सच में अपने साथी को पहचानते भी हैं, या नहीं?

कई नाख़ुश युगलों की समस्या तब शुरू होती है, जब सेवानिवृत्ति को लेकर उनकी अपेक्षाएँ समान नहीं होती हैं और यह तब और भी बढ़ जाती है जब वे इस बारे में कभी बात तक नहीं करते। कुछ लोगों के लिए यह कुछ रोमांचक करने का बहुप्रतीक्षित समय होता है, वे अपने प्रियजनों के साथ अपने रिश्तों में नयापन लाना चाहते हैं या उसे मजबूत करना चाहते हैं और नए उद्देश्य तलाशते हैं। जबकि दूसरों के लिए इसका अर्थ कंप्यूटर के सामने या गोल्फ़ के मैदान में आराम से ढेर सारा समय बीताना हो सकता है।

एक-दूसरे को हलकान कर छोड़ने की बजाए, अच्छा हो कि दंपत्ति अपने भविष्य के लिए कोई ऐसी योजना बनाए, जिस पर दोनों की आपसी सहमति हो। उन्हें इस बारे में सोचने और चर्चा करने की ज़रूरत है कि वे कितना समय साथ में व्यतीत करना चाहते हैं और उसे किस तरह से गुज़ारना चाहते हैं। यह संवाद आप दोनों को सेवानिवृत्ति से बहुत साल पहले शुरू कर देना चाहिए।

सेवानिवृत्ति के तुरंत बाद के कुछ सालों में नोंक-झोंक-तकरार होना बहुत ही आम है। शादी का तनाव तब और भी गहरा हो जाता है यदि दोनों में से कोई एक पहले सेवानिवृत्त होता है। विवाह एक संस्था है, जिसे बनाए रखने के लिए किसी को पूरे जीवन उस पर काम करते रहना पड़ता है, न कि सेवानिवृत्ति तक उसे ऐसे ही अनदेखा पड़े रहने दिया जा सकता है। सेवानिवृत्ति के बाद कई जोड़े एक-दूसरे के साथ अपना समय बहुत ख़राब तरीके से बिताते हैं क्योंकि वे एक-दूसरे के साथ निबाह नहीं कर पाते। हमारे कई ऐसे दोस्त हैं जिन्होंने सेवानिवृत्ति की उम्र में जब उनके बच्चे अपनी-अपनी ज़िंदगी में लग गए थे, अपनी अलग दुनिया बसाना पसंद किया या कोई दूसरा जीवनसाथी चुन लिया।

यहाँ तक कि वे शादियाँ जो नौकरी-चाकरी के दिनों में बनिस्बत ठीक जान पड़ती थीं, उनमें भी किसी न किसी कारण झगड़े होना शुरू हो जाते हैं क्योंकि पति-पत्नी अब हर दिन एक-दूसरे के साथ बहुत-सारा समय बीताने लगते हैं।

इसकी वजह है कि सेवानिवृत्ति, वैवाहिक जीवन के कई पहलुओं में बदलाव ले आती हैं और कई चीज़ें खुद को भी बदलनी पड़ती है।

अमेरिका, यूरोप और जापान में “सेवानिवृत्त पति सिंड्रोम (रिटायर्ड हसबैंड सिंड्रोम- आरएचएस)” बहुत चर्चित विषय है, यहाँ तक कि इस विषय पर शोध प्रबंध तक लिखे गए हैं। कुछ जापानी महिलाएँ तो अपने सेवानिवृत्त पतियों को “सोधीगोमी” या कि कहे “भारी-भरकम अटाला” तक कहती हैं। अमेरिकी और यूरोपीय महिलाओं के पास भी इसके लिए ऐसा ही कोई शब्द होगा। पुरुष के सेवानिवृत्त होने के बाद दोनों के लिए जीवन बदलता है और सेवानिवृत्ति के बाद के पहले कुछ वर्षों में ही कई महत्वपूर्ण बदलाव करने पड़ते हैं।

अब यह बात असामान्य नहीं रही कि जो दंपत्ति अपने कामकाजी जीवन में साथ रहते थे उन्होंने बुढ़ापे में “ग्रे” तलाक का निर्णय ले लिया हो। जिन समस्याओं को आम तौर पर “काम के नाम पर” दरकिनार कर दिया था अब उनके फन उभरने लगते हैं क्योंकि अब पर्याप्त समय होता है और दंपत्ति जानते हैं कि उनके पास इन समस्याओं से दो-चार होने के अलावा और कोई रास्ता भी नहीं बचा है।

यदि आप झटपट यह जानना चाहते हैं कि आप और आपका साथी एक-दूसरे के कितने अनुकूल हैं, तो एक-दूसरे के साथ सप्ताह के सातों दिन, 24 घंटे साथ रहकर देखिए। समस्याएँ ख़ुद-ब-ख़ुद मुँह-बायें खड़ी होने लगेंगी। यही वह परीक्षा है जिसका सामना दंपत्तियों को आम तौर पर सेवानिवृत्ति के तुरंत बाद करना पड़ता है। जिन सालों में पति-पत्नी ने स्वतंत्र जीवन शैली को जीया था उसकी तड़प उन्हें उस दिन होती है, क्योंकि उन्हें इस सच्चाई का सामना करना पड़ता है कि उन दोनों के बीच कुछ भी समान नहीं है। पूरे वैवाहिक जीवन में वे आपस में कोई भी समान रूचि पैदा करने में नाकाम रहे हैं- उन्होंने आपसी सामंजस्य को बनाने के लिए कुछ नहीं किया होता। आपसी सम्मान और संवेदनशीलता पर कोई रिश्ता खड़ा करने की बजाए उन्होंने एक-दूसरे की भावनाओं को नज़रअंदाज़ किया और वैवाहिक जीवन को ही पूरे जीवनभर के लिए खो दिया।

हाल ही में सेवानिवृत्त हुए एक दोस्त ने टिप्पणी की, “सेवानिवृत्ति से पहले मेरी पत्नी मुझसे मदद माँगती तो मैं अनिच्छा से उसका काम करता था। अब वह कहती है कि मुझे क्या करना चाहिए क्योंकि मेरे पास करने के लिए और कुछ नहीं है और उसका ऐसा कहना मुझे बहुत बुरा लगता है।”

किसी महिला के नज़रिए से देखे तो वह कहेगी, “आपके पति की सेवानिवृत्ति के बाद, मानो आपको दोगुना पति मिल जाता है, और वेतन आधा।” यह बहुत ही हल्के-फुल्के अंदाज़ में कहा गया वक्तव्य है। जबकि एक वृद्धा ने कहा, “कभी-कभी मैं सुबह झुंझलाहट के साथ उठती हूँ। किसी दिन मैं पति को सोने देती हूँ!”

मैंने अपने उन दोस्तों के सामने, जो अभी-अभी सेवानिवृत्त हुए, जिस सबसे बड़ी चुनौती को देखा वह है समय, जिसे उन्हें अपने जीवन साथी के साथ बीताना था। अधिकांश युगलों में जिनकी शादी को अभी तीन दशकों से कुछ अधिक हुए हैं, उन्होंने जीवनसाथी के साथ जो पहले समय बीताया था वह तब था, जब बच्चे साथ में थे, ऐसा तब तक रहा,जब तक बच्चे महाविद्यालय या काम की वजह से कहीं और न चले गए हो, पर उसके बाद भी वे उसी वक्त साथ होते थे जब फुर्सत के पल हो जैसे सुबह की चाय का समय या रात्रि के भोजन का समय। ध्यान दीजिए, शादी के लगभग तीन दशक बाद आप दोनों में से कोई भी इस स्थिति में नहीं है कि दूसरे इंसान की विचार शैली को बदल सके या बदलने की कोशिश तक कर पाए।

पूरा दिन घर पर रहकर बिताने का विचार करना भी एक चुनौती है, जिसे सोचना भी दुर्गम लगता है। आप दोनों एक दूसरे के साथ दिन के 24 घंटे कैसे बीता सकते हैं, वह भी एक ही जगह रहकर और तब भी कोशिश करें कि एक-दूसरे के पास खुद की एकांत की पर्याप्त जगह हो।

मैंने पति-पत्नी दोनों के मुँह से कई बार यह आम बात सुनी है कि “पता नहीं, हम लोग सेवानिवृत्ति के बाद कैसे जी सकेंगे।”

आप दोनों के बीच यह समायोजन बैठा पाना एक चुनौती है, जिसके पार करना होगा। यदि आपका जीवनसाथी कामकाजी है और अभी तक सेवानिवृत्त नहीं हुआ है, तो आपको कुछ और घरेलू जवाबदारियों संभालने की तैयारी दिखानी होगी। यदि वह कामकाजी नहीं है तो घर के उसके कुछ कामों में हाथ बँटाना होगा, जो हो सकता है आपने पहले कभी न किए हो। युगलों को पता चलता है कि वे एक-दूसरे के उतने अनुकूल नहीं है जितना उन्हें पहले लगता था क्योंकि उन्हें अब पूरे दिन एक-दूसरे का सामना करना पड़ता है।

मेरी पत्नी ने पूछा, “आज आप क्या कर रहे हो?”

मैंने कहा कुछ नहीं

उसने पूछा, “जो कल कर रहे थे उसका क्या हुआ

मैंने कहा, “वह अभी तक पूरा नहीं कर पाया

मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए सामाजिक तौर पर जुड़े रहना बहुत ज़रूरी है। अधिकांश सुखी सेवानिवृत्त दंपत्ति वे देखे गए हैं जो कई दोस्तों के साथ बड़ी सक्रियता से अपना सामाजिक जीवन गुज़ारते हैं। महिलाएँ इसे बड़ी आसानी से अपना लेती है और वे आम तौर पर समाज से अधिक जुड़ी भी होती हैं, उनके दोस्तों और परिवार के साथ भावनात्मक संबंध बनिस्बत अधिक मज़बूत होते हैं। पुरुषों के लिए महिलाओं की तुलना में सेवानिवृत्ति के बाद का जीवन अधिक कठिन होता है, इसकी एक प्राथमिक वजह तो यह है कि वे जीवन के शुरुआती समय से ही कभी गहराई से रिश्ते निभाने को लेकर अधिक चिंतिंत नहीं होते। पुरुष सेवानिवृत्ति के बाद सामाजिक बने रहने के लिए अपने साथी पर अधिक निर्भर रहते हैं और बहुत हद तक वे इसकी ऐसी माँग भी करते हैं।

अपने पूरे कामकाजी जीवन में आप दोनों अपने काम और बच्चों से बेहताशा घिरे रहे होंगे। पहला बदलाव तो आपको तभी दिखाई देगा जब आपके बच्चे स्कूली पढ़ाई के बाद घर के बाहर कदम रखेंगे। चाहे वे आपके ही देश के किसी महाविद्यालय में पढ़ने के लिए जाएँ या विदेश जाएँ, इतना तो तय है कि उन्होंने घर से उड़ान भर ली है और वे अपने जीवन में आगे बढ़ने लगेंगे। यह पहला समायोजन है जिससे अधिकांश दंपत्तियों को आगे जाना पड़ता है क्योंकि अब वे भी ऐसे माँ-बाप हो जाते हैं जिनके बच्चे बड़े होकर उनसे अलग हो गए हो, “खाली नस्ल” बनने की आशंका को झुठलाया नहीं जा सकता। हालाँकि अपने व्यस्त कार्यकाल और सामाजिक तानेबाने में आप दोनों इस बदलाव को आसानी से पार कर जाते हैं।

दूसरा बड़ा बदलाव तब होता है जब आप सेवानिवृत्त होते हैं। अचानक आप दोनों घर पर होते हैं और जब कई बदलावों के अनुरूप खुद को ढालने की कोशिश में होते हैं तब आप दोनों अपने रिश्ते में भी कुछ जगह तलाशते हैं। आप दोनों के बीच जितने भी मसले रहे हो उन्हें भूल जाइए और अपने जोड़ीदार को अपने आगे के पूरे जीवन के साथी के रूप में देखिए। किसी दूसरे साथी को खोजना जो आपके हर पागलपन और ग़लतियों को स्वीकार करने की तैयारी रखें और आपके साथ एक ही छत के नीचे रहने के लिए तैयार हो, काफी मुश्किल है।

योजना बनाइए,लेकिन योजनाओं की अति मत कीजिए न ही अपने या एक-दूसरे के रोज़मर्रा के जीवन में भारी फेर-फार कीजिए। थोड़ा समय खाली छोड़ दीजिए, शायद कुछ अप्रत्याशित हो जाए या फिर कभी कहीं यूँ ही घूमने निकल जाइए।

इससे आप वास्तव में अपने सेवानिवृत्त साथी के अपने आस-पास के साथ को पसंद करने लगेंगे और अगले कई सालों तक उसके साथ की चाहत को बरकरार रख पाएँगे।

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं। वे ५ बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं।

  • ट्विटर : @gargashutosh
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

 

2 thoughts on “सेवानिवृत्ति और आपके जीवन साथी के साथ संबंध – भाग 1

  1. I have been impressed by your achievements, although I have not been able to read your books. I am a citizen of United States and I am here for some time. I wanted some feed back from you. If you get time please kindly get in touch with me. Thanks

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s