CEO’s and Mentors – Experience Never Gets Old

161218-ceos-and-mentors

It is a lonely job at the top and very few people can be trusted by the person who has just been installed in the top job as the new CEO.

Most young and recently promoted CEO’s, while aspiring for the job feel overwhelmed when they take on the responsibility in The Corner Office of their company. This is a big transition that most people make from being top class functional heads to general management. Some settle into their roles and soar. Some plod along, keep managing their risks carefully waiting for their term to end. Some don’t settle in and have to be replaced. There are CEO’s who love to micro manage and there are others who only look at the macro picture. There are those to take responsibility for their decisions and there are those who blame someone for every decision.

At no stage in the careers of these CEO’s would they have been deemed “unfit for the task” because they have been selected for the top job, with the full confidence and support of the Board. So what is it that makes these CEO’s become risk averse in their new role or set themselves up for failure? And what can the Boards of Directors, who have played a role in the appointment of these CEO’s do to support their chosen candidate?

If the Board of Directors is committed to investing in the success of their newly appointed CEO, it becomes necessary to support the CEO through mentoring and coaching. It is believed that more than half of the CEO’s do not reach their potential, leading to anger and frustration. The Boards must understand that for an Alpha Male to succeed, he must me mentored by a former Alpha Male.

At the same time, thousands of CEO’s and managers are retiring from the corporate world at the young age of between 60 – 65 years after spending almost four decades in specialized and general management positions in large and small corporations. At this stage of their lives they clearly have at least another decade of work inside them. This aging and retirement of senior managers is happening in all parts of the world. These people know what it is like to run businesses and tackle the challenges of building businesses. They have functional expertise in finance and accounts, budgeting, packaging, branding, sales, human resources, governance, legal matters and they have “been there done that” in the areas of general management.

Is there a possibility of getting these older managers to mentor the young and newly appointed CEO’s? Is there an opportunity to bring together the energy of the young CEO and the experience of the older mentor in an unobtrusive and non-threatening manner for the benefit of the stakeholders? I believe the answer is a resounding yes. The challenge will be to find the right match and not to succumb to the easy way out of hiring a retired manager from the same company to mentor the young CEO. Therefore, finding the right mentor and then monitoring progress is a role that the Board of the company needs to own and take accountability for.

If I was to try and define the role of a CEO based on my 4 decades of experience in the corporate world and as entrepreneur, I would list out 6 key points:

Accountability

The CEO needs to drive accountability in his team members while being accountable to the Board and the investors. Developing the right metrics for each department and then holding them accountable to achieve these is critical.

Allocating capital

For most high growth businesses, capital is scarce. The responsibility of managing the capital made available by the stakeholders lies squarely with an empowered CEO.

Ambassador – Internal and External

The CEO has to see himself as the Ambassador of the company and its business, irrespective of how large or small the business maybe. The role of the Ambassador is equally important both inside and outside the company.

Culture and Core Values

Every business has a culture and the role of the CEO is to develop this culture. The culture of the company needs to be managed as it evolves from the core values of the business and is built over a period of time.

Craft Strategy

Every business needs a strategy to reach out to the consumer and the CEO needs to think through the strategy of the company with his leadership team and in consultation with the Board.

Succession planning

These two words are generally misunderstood to mean succession planning from a human perspective. However, the CEO needs to ensure a proper succession plan to include new vendors and new products to meet and exceed the expectations of the customers.

Given his experience, a mentor play a significant role in brain storming each of these 6 points with the CEO on an ongoing basis. In addition, an experienced mentor will also bring in guidance and knowledge in the following areas:

Good Governance Practices

A good mentor will ensure that the CEO will build good governance and transparent practices in the organisation. Even something as mundane as ensuring board meetings are held on time and minutes are properly recorded is an area where young companies have been known to slip up.

External Relations

Most businesses, irrespective of the sector they are addressing, need a strong connect with the external world. These connections could be with bureaucrats, politicians, environmental activists or the local councillor. A strong and experienced mentor will have the patience to support the CEO to handle these external challenges

Legal Processes

Most young CEO’s are inexperienced when it comes to handling litigation. A mentor will bring wisdom in handling such legal matters, resulting in a saving of valuable managerial time, resources and of course, money.

Having mentored several CEO’s and entrepreneurs, I have seen the value a mentor who has “been there done that” can provide. For the CEO, it is a very lonely job and there are very few people he can trust. A well-crafted combination of the young energetic legs of the CEO with the experienced grey hair of the mentor would be a win-win combination for all businesses. To draw a parallel from hockey or football, while the CEO and his team are rushing to shoot goals and win, the mentor will be standing on the sidelines guiding the players and protecting the goal!

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies and the author of the best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye and The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur. 

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

Planning for Retirement

170103-retirement-and-budget

Retirement has nothing to do with you or your competence. It is an event which is the result of the policies of your employer and this is an inevitable stage in all our lives. It is estimated that the population of 60 year olds in the World will cross 1 billion by the end this decade. India will have over 100 million seniors

Each one of us is unique and will have our own suite of needs, experiences, personal and family circumstances, financial needs and personal health. So why don’t we want to plan for this next important phase of our life carefully and well in advance of the date of superannuation? It is important for each one of us to consider the following thoughts as we plan our retirement. These are merely pointers and by no means a comprehensive solution to the challenges we are likely to face in our retired life.

Acceptance of the New Normal and No Self-pity

The single biggest challenge I have seen that retirees face is internal acceptance that they have reached the age of retirement. Till you accept this stage of life happily, you will always be unhappy and possibly angry for not having been given the time to achieve all that you may have set out to achieve. You could be angry because you started work later than others and therefore got your due later than others or had a shorter working life. You could also slip into a very convenient mode of acceptance of self-pity.

I have met so many retirees who preface their venting with the words “If only” and I tell them “Why blame the World and everyone else for a retirement event that you have no control over? The quicker you accept that you have retired or are about to retire, the faster you will adjust to your new life”.

Social Networks and Technology 

There is a whole new world waiting for us in the world of social media and technology. According to the Pew Research Centre, Internet use among those 60 and older grew 150 percent between 2009 and 2011, the largest growth in a demographic group. Furthermore, their study showed that of those that go online, 71 percent do so daily and 34 percent use social media. Their numbers have increased very significantly since this research. The seniors use these tools to bridge the geographic gap between them and their loved ones far away and as a way to re-connect with friends. Studies show that the internet has become an important portal for reducing isolation and loneliness.

The “seniors” are taking to social media like a fish to water discovering school and college friends like never before. Well beyond our normal Facebook page and our posting of the occasional photograph and sometimes hitting the “like” button. Skype and WhatsApp groups are overflowing with forwarded and re-forwarded messages. More savvy seniors are on Instagram and discovering a whole new world.

For many of us who believed that we had no time to learn social media because of work related time pressures, retirement is an excellent time to make this transition. Remember that when we started work three decades ago, computers were new and we had to learn this new tool as well! My 87 year old father stayed in regular touch with his grandchildren using various social media platforms.

Start a social group with like-minded people in areas that you like and you will soon discover many new friends.

Management of Expectations

We have to recognize one blunt truth. Our lives will change once we retire. There is no point in hanging on to memories. Even these will change over time. How we manage this change is entirely dependent on us. We need to understand our own reality and we need to deal with this reality.

Management of our expectations post retirement goes well beyond managing our finances. While money is always a critical component, disappointments of retired life often go beyond financial security. I have met many retirees who are disappointed that they have not planned their time well or they have not cultivated any hobbies or have not built a circle of friends beyond their work colleagues or have lost contact with family members.

To these people I say that it is never too late to start. Remember that you are looking at the next three decades of your life ahead of you.

Establish a new Routine for yourself

Most of us have been used to a routine that has been developed in our working life. As most of us reach the age of superannuation our children will not demand much time since they would have started their own lives. Our spouses will have accepted our companionship rather than demanding our time. Our routine would have been evolved based on spending long hours at the office and spending more client facing hours. As we retire, we are not able to figure out how to manage all the surplus time that we have.

The change, therefore, when we retire is very significant. We will suddenly have most of our waking hours to account for and use gainfully. In order to achieve this new normal sensibly, we need to work out a routine and follow it assiduously. Some people I know have actually got their routine logged into their Outlook calendar and follow it carefully. Too much of any one activity is not sustainable and therefore we will have to develop of blend of routines covering a multitude of activities.

Leisure

Most of us are so used to working long hours at work that we almost feel guilty when we think of leisure. Therefore, when we look at retirement as a time for leisure, we miscalculate or underestimate that this can be a time of fulfilment.

Take out your “bucket list” and start working on it. If you have not prepared one, now is the time to start listing out everything you have always wanted to do but did not have the time to do.

Watch all those movies and television serials that you did not have time for. Try out all those new restaurants and cuisines. Develop new skills. There are hundreds of options available and if this involves you taking some educational courses, so be it.

Travelling today is easier and much more affordable than when we started working in the seventies or eighties. If you can afford it, travel to places within your country or the World. Plan to travel to places that you have always dreamt of but were not able to go to.

In your retirement, your leisure is real and well-earned after three decades of working. Retirement needs effort and the earlier you start making this effort the happier you will be. For you, moving forward in your new life as a retiree, the World must know no boundaries.

Planned well, you may suddenly realise that your retirement will become a busiest phase of your life, much more than you had imagined.

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies and the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

नियोक्ता अपने सेवानिवृत्तों के लिए किस तरह मददगार साबित हो सकता है?

161203-employer-retiree-1

निजी क्षेत्र के एक बड़े कॉर्पोरेशन ने जब भारत में आयोजन किया, तब मैं वहाँ सेवानिवृत्ति पर वक्तव्य दे रहा था, मुझे यह देख सुखद आश्चर्य हुआ कि अध्यक्ष और निदेशकों की पूरी समिति वहाँ सेवानिवृत्तों को प्रोत्साहित करने और उनको सहयोग देने के लिए मौजूद थी। अध्यक्ष को सुनने और समिति के कई सदस्यों से गहराई से बात करने तथा सेवानिवृत्त कर्मचारियों की अगली पीढ़ी के साथ रहने के बाद मैं बहुत सकारात्मक प्रभाव लेकर लौटा…मुझे लगा कि यह संगठन भविष्य को ध्यान में रखकर, सेवानिवृत्तों की देखभाल करने वाला है, जो आमतौर पर नहीं दिखाई देता।

अधिकांश संगठन सेवानिवृत्तों के लिए छोटी-सी विभागीय पार्टी रख देते हैं और उस व्यक्ति के डूबते सूरज के घोड़े की लगाम कस देते हैं। केवल कंपनी का अध्यक्ष जिसने संगठन को बहुत ऊँचाइयाँ दी हो, उसे छोड़ दे तो पूरे देश या विश्व में सबके साथ यही होता है कि उन्हें सूर्यास्त की दिशा में अकेले उड़ान भरनी पड़ती है। सबका अंत लगभग एक समान होता है- कोई संगठन किसी को सेवानिवृत्ति के लिए तैयार होने में मदद नहीं करता। यह सरकारी कर्मचारियों, सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों, साथ ही साथ निजी क्षेत्र के कर्मचारियों, सब पर लागू होता है।

खेल का अंत एक समान होता है, कितनी पार्टियाँ दी जाती हैं और कितने उपहार दिए जाते हैं यह केवल इस पर निर्भर करता है कि कोई सेवानिवृत्त कितना वरिष्ठ या कनिष्ठ था। संगठन के नज़रिए से देखें तो, वे अपने सहकर्मी को जोशीली बिदाई दे रहे होते हैं, लेकिन जैसे ही उसका कद कम होता है और आखिरी दिन आता है, उसकी ज़िंदगानी बदल जाती है।

नियोक्ताओं को यह हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि इन सेवानिवृत्त लोगों के पास संगठनात्मक ज्ञान की प्रचूर संपदा है और उनसे जुड़े रहना संगठन और भावी कर्मचारियों के लिए लंबे समय तक लाभदायी रहेगा।

विकसित देशों के कुछ आँकड़ों के अनुसार बमुश्किल 15% सेवानिवृत्त अपने बाद के जीवन को लेकर योजनाएँ बना पाते हैं, सेवानिवृत्त का मन-मस्तिष्क इसके लिए पूरी तरह तैयार नहीं होता। वे अपने-आपको संतुलित रखना चाहते हैं, लेकिन सेवानिवृत्ति के पहले ही दिन जीवन की यह अवस्था उन पर वार कर देती है।

नए प्रक्षिशुओं और कनिष्ठों तथा वरिष्ठता क्रम के मध्य में स्थित प्रबंधन के लोगों के प्रशिक्षण पर संगठन लाखों रुपए खर्च कर देते हैं। प्रशिक्षण पर इतनी राशि इसलिए खर्च की जाती है ताकि कंपनी की ‘निचली रेखा’ में इज़ाफ़ा हो और शेयरहोल्डर को दिए जाने वाले लाभांश में वृद्धि हो सके। इसमें से कुछ राशि बड़ी आसानी से अलग रखी जा सकती है जिन्होंने अपना पूरा जीवन संस्थान को दिया था। इस राशि से उन्हें पुन: तैयार किया जा सकता है और हो सकें तो कार्यकुशल भी बनाया जा सकता है।

हालाँकि सरकारी और निजी क्षेत्र के कर्मचारियों और कुछ-एक सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में सेवानिवृत्ति के लिए योजनाएँ होती हैं लेकिन अधिकांश सेवानिवृत्त उन सेवानिवृत्ति लाभ को नहीं उठा पाते। सेवानिवृत्तों के सामने आर्थिक और स्वास्थ्य संबंधी दो बड़ी महत्वपूर्ण चुनौतयाँ होती है जिनका उन्हें सामना करना पड़ता है। सेवानिवृत्ति की तारीख के तीन साल पहले से सेवानिवृत्ति की तैयारियाँ शुरू की जाना चाहिए। वरिष्ठों के नेतृत्व में मानव संसाधन विभाग को इस योजना हेतु पहल करनी चाहिए।

तो, कोई संगठन किस तरह सेवानिवृत्तों को सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के लिए तैयार करने में मदद और सहयोग कर सकता है?

सेवानिवृत्ति के बाद का समय प्रबंधन समायोजन की प्रक्रिया है

अधिकांश सेवानिवृत्त लोगों ने दो से तीन दशक, कंपनी के लिए जी-तोड़ मेहनत कर गुज़ारे होते हैं, तब अपनी छुट्टियों और पारिवारिक समय से समझौता करते हुए उन्होंने अपने निजी जीवन का विचार तक नहीं किया होता और हर हफ़्ते बिना रुके 60 घंटे काम किया होता है। इस तरह के लोग सेवानिवृत्त व्यक्ति का श्रेष्ठ उदाहरण होते हैं, जिनके सामने सबसे गंभीर कठिनाई  होती है कि काम रुक जाने पर अब पूरे खाली पड़े समय का क्या किया जाए?

कुछ संवेदनशील और प्रगतिशील नियोक्ता, कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति की आयु तक पहुँचने में मददगार होते हैं। वे अपने कर्मचारियों को इस बारे में सचेत कराते रहते हैं कि उनके आगे के जीवन की गति किस तरह धीरे-धीरे धीमी होती चली जाएगी।

मुझे यह देखककर खुशी हुई कि इन कंपनियों में सेवानिवृत्त होने से तीन साल पहले से अलग तरह की सुविधाएँ देने का दौर शुरू हो जाता है,

वहाँ ऐसे कर्मचारियों के सालाना अर्जित अवकाश में हर साल एक तिहाई की वृद्धि की जाती है। इस तरह यदि सेवानिवृत्ति से तीन साल पहले किसी कर्मचारी को चार सप्ताह का अर्जित अवकाश मिल सकता है तो वे उसे पाँच सप्ताह के लिए योग्य बना देते हैं, फिर सेवानिवृत्ति से दो साल पहले उस कर्मचारी को पाँच सप्ताह का अवकाश मिलने लगता है और सेवानिवृत्ति वाले वर्ष में वह सात सप्ताह का हो जाता है। इससे सेवानिवृत्त होने वाले व्यक्ति को अवसर मिलता है कि वह खाली समय क्या करेगा, इस बारे में सोच सकता है और धीरे-धीरे अपने नए जीवन के लिए खुद को तैयार करता चलता है।

कुछ कंपनियाँ अपने सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों के लिए सेवानिवृत्ति से दो साल पहले लचीले समय की व्यवस्था कर देती है।

कुछ अन्य कंपनियाँ अपने सेवानिवृत्त कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति से छह महीने पहले अपने हिसाब से समय चुनने की छूट देती हैं ताकि वे अपने निजी कामों को अपने हिसाब से कर सके।

ज़ाहिरन, अतिरिक्त छुट्टी लेने या लचीले समय का विकल्प पूरी तरह से सेवानिवृत्तों के लिए खुला विकल्प होता है। मुझे आश्चर्य इस बात का हुआ कि बहुत कम सेवानिवृत्त इस अवसर को उठाते हैं, इसकी वजह या तो उनके मन में अपनी नौकरी को लेकर असुरक्षा का भाव होता है या उनकी इच्छा अपनी होने वाली सेवानिवृत्ति से सामना करने की नहीं होती और जो अवश्यंभावी है उसे अंतिम दिवस तक स्वीकारना टालते रहते हैं।

आर्थिक और सांपत्तिक प्रबंधन

सेवानिवृत्तों की सारी चिंताओं की एकमेव सबसे बड़ी वजह यह होती है कि क्या उनकी बचत, सेवानिवृत्ति के बाद की उनकी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त होगी। इतना ही कहना काफ़ी नहीं होगा कि उन्हें और बेहतर तरीके से योजना बनानी चाहिए या वे जानते हैं कि उनकी सेवानिवृत्ति अपरिहार्य है।

विभिन्न कर्मचारियों को अलग-अलग तरीके से योजना बनानी चाहिए। मैं ऐसे कई सेवानिवृत्त लोगों से मिला हूँ जो अपनी बड़ी पूंजी संपत्ति खरीदने में लगा देते हैं, उनका विश्वास होता है कि वे उतार-चढ़ाव से खुद को बचा रहे हैं। वे संपत्ति के मामले में तो अमीर होते हैं पर नकदी में वे ग़रीब होते हैं। उसी तरह दूसरे लोग भी होते हैं वे अपना पैसा बचाते हैं और अपना खुद का घर भी नहीं खरीदते इस ग़लतफ़हमी में कि वे सेवानिवृत्ति के बाद खरीद लेंगे और जब वह क्षण आता है, अचानक उन्हें लगता है यदि घर में पैसा लगाया तो उनकी बचत का एक बड़ा हिस्सा अटक जाएगा।

नियोक्ता अपने कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की यात्रा में उनकी वित्तीय योजनाओं में मददगार होने में एक बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। जब कर्मचारी अपनी सेवानिवृत्ति से पाँच वर्ष दूर होते हैं तभी कंपनियों को इस बारे में प्रकाश डालना शुरू कर देना चाहिए। वित्त प्रबंधन के लिए व्यावसायिक मार्गदर्शन दिलवाकर नियोक्ता अपने सेवानिवृत्तों की सेवा में काफ़ी मददगार हो सकते हैं।

कर्मचारी कितना भी वरिष्ठ या कनिष्ठ क्यों न हो, उन्हें अपनी सेवानिवृत्ति के बाद की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए योजनाएँ बनाने में मदद की आवश्यकता होती है, ख़ासकर उनके जीवनसाथी इसे लेकर जागरूक नहीं होते कि उन्हें अब क्या सोचना चाहिए क्योंकि उन्हें तो अपने मासिक चेक मिलने की आदत होती है। भविष्य में सेवानिवृत्त होने वालों में बड़ी संख्या ऐसे लोगों की होती है जो इस बात की चिंता नहीं करते कि वे थोड़ा रुककर योजनाएँ बनाएँ और अपने संचित कोष में देखें कि कितना पैसा है और न ही वे इस बात के प्रति जागरूक होते हैं कि सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें मासिक खर्चों को पूरा करने के लिए कितने पैसों की ज़रूरत होगी। नियोक्ता नामी विश्वसनीय वित्तीय सलाहकारों का चयन कर सकते हैं और उनसे कार्यकालीन समय में शिविर लगाने के लिए कह सकते हैं ताकि भविष्य में सेवानिवृत्त होने वाले उनसे वे सवाल पूछ सकें, जिन्हें वे अब तक नहीं पूछ पाए थे। इससे सेवानिवृत्तों को योजना बनाने की प्रक्रिया शुरू करने में बेहतर सहायता मिल सकेगी।

अधिकांश सेवानिवृत्त, जिन्होंने अपना घर खरीदने में पैसा निवेश नहीं किया होता है, उन्हें यह तय करने में मदद की ज़रूरत होती है कि उन्हें किस तरह का घर खरीदना चाहिए जो उनके वर्तमान और भावी नकदी तरलता के दायरे में हो। वे सेवानिवृत्त जिन्होंने अपना खुद का घर खरीद लिया है, उन्हें विस्तार से यह बताना बहुत ज़रूरी होता है कि उन्हें घर अपने या जीवनसाथी के ही नाम पर रहने देना चाहिए और उसे तब तक बच्चों के नाम पर हस्तांतरित नहीं होने देना चाहिए जब तक कि उन दोनों में से कोई एक भी ज़िंदा हो। इस तरह के कई मामले देखे गए हैं जहाँ बूढ़े माता-पिता को उनके ही बच्चों ने घर से निकाल फेंका हो।

अधिकांश लोग शांति से बैठकर अपनी वसीयत बनाने की चिंता नहीं करते। यह एक और क्षेत्र है जिसके बारे में योजना बनाना और इस प्रक्रिया में कर्मचारियों की मदद करना बहुत ज़रूरी है। हममें से अधिकांश यह मानकर चलते हैं कि जीविका कमाने वाले मुख्य व्यक्ति के गुज़र जाने के बाद संपत्ति अपने आप उनके जीवनसाथी को मिल जाएगी। जबकी ज़रूरी नहीं कि ऐसा ही हो और अदालत में ऐसे हज़ारों मामले केवल इतनी सी बात पर चल रहे हैं कि वसीयत नहीं बनी थी। दोनों जीवनसाथी के लिए अच्छा होगा कि वे अपनी वसीयत लिखें और बैंक लॉकर में जाकर रख आए।

सेवानिवृत्ति के बाद की कुशलता

जागरूक नियोक्ता अपने सेवानिवृत्त कर्मचारियों का कौशल बनाए रखने के लिए कई कदम उठाकर उनकी मदद कर सकते हैं।

कंपनी में पुन: रोजगार – कंपनियों को उन कर्मचारियों को सहयोग देना चाहिए जो पुन: रोजगार योजना के अंतर्गत और काम करने की इच्छा रखते हो। इसे सलाहकार सहयोग या सावधि करार की तरह किया जा सकता है। इस तरह के विकल्प कभी-कभी काम कर जाते हैं, पर हमेशा यह होता है कि जो उनके अधीन काम कर रहे होते हैं वे अब वरिष्ठ हो गए होते हैं और इससे टकराव बढ़ता है।

कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) – कई संगठनों के पास भरपूर CSR बजट होता है और वे अपने सेवानिवृत्त कर्मचारियों से कह सकते हैं कि वे इन विभागों को देखें क्योंकि इन सेवानिवृत्तों को संगठन का पूरा ज्ञान होता है और वे संगठन के हितों के मद्देनज़र काम कर सकते हैं।

गैस सरकारी संगठन (एनजीओ) – कई कंपनियाँ अपने वार्षिक बजट का एक हिस्स एनजीओ की मदद का रखती है। सेवानिवृत्तों को इस तरह के एनजीओ के साथ मिलकर काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। यह प्रक्रिया सेवानिवृत्त की रूचि के स्तर पर हो सकती है, जिसे कर्मचारी की सेवानिवृत्ति के कुछ साल पहले से शुरू किया जा सकता है और सेवानिवृत्ति के बाद जारी रखा जा सकता है।

साथ ही, सेवानिवृत्तों से कहा जा सकता है कि वे अपने से बाद के लोगों का मार्गदर्शन करें, केवल काम सौंपने की औपचारिकता से अधिक, जो लगभग हर संगठन में होता है।

स्वास्थ्य

सेहत की चिंता हमेशा अधिकांश सेवानिवृत्तों को होती है, भले ही उनके पास पर्याप्त पैसा हो। सेहत का ध्यान रखने में भी उनका बहुत सारा पैसा चला जाता है, इतना कि कई बार उन्हें लगता है क्या उन्हें आपातकालीन चिकित्सा व्यवस्था के लिए अलग से इंतजाम करना चाहिए। स्वास्थ्य की यह चिंता तब और भी बढ़ जाती है जब सेवानिवृत्तों को उनके नियोक्ताओं की ओर से स्वास्थ्य सेवा का लाभ नहीं मिला होता है जैसा कि सरकारी या निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को मिलता है।

नियोक्ता इस तरह के स्वास्थ्य संबंधी भय दूर करने में महती भूमिका निभा सकते हैं। हर कर्मचारी को रोजगार मिलने से पहले विस्तृत चिकित्सकीय जाँच से गुज़रना पड़ता है ताकि वह कंपनी के साथ अपने रोजगार जीवन में प्रभावी योगदान दे सकें। तब क्या यह अपेक्षा करना बहुत ग़लत होगा कि सेवानिवृत्ति से पहले भी उसकी विस्तृत चिकित्सकीय जाँच हो जाए ताकि वह सेवानिवृत्त व्यक्ति और उसका जीवनसाथी सेवानिवृत्त जीवन के लिए तैयार हो सके?

आज बहुत ही किफ़ायती दाम पर कई स्वास्थ्य बीमा योजनाएँ उपलब्ध है लेकिन अधिकांश लोग यह नहीं जानते कि उसका लाभ कब लिया जाए या उन्हें उनके और अपने जीवनसाथी के लिए किस तरह की योजना लेनी चाहिए।

कई नियोक्ताओं के मानव संसाधन विभागों को सेवानिवृत्ति से बहुत पहले अपने कर्मचारियों को स्वास्थ्य लाभ सेवाओं के बारे में बताना चाहिए। यदि यह समय पर कर दिया गया तो उसकी भुगतान राशि चुकाना आसान होता है और उन सारे ख़तरों को उसमें समाहित किया जा सकता है, जो बीमारी अभी गंभीर या जटिल नहीं हुई है। कार्यरत रहते हुए स्वास्थ्य बीमा कराने की सलाह अधिक मानी और अधिक आसान है बनिस्बत इसके कि उसे सेवानिवृत्ति के बाद के लिए छोड़ दिया जाए।

परामर्श

इसलिए, नियोक्ताओं को इस बात की ज़रूरत है कि वे बैठे और उन चुनौतियों के बारे में सोचे जिनका सामना उनके कर्मचारियों को करना पड़ सकता है, जिनसे वे नए सामान्य जीवन को जीते हुए दो-चार होने वाले होंगे, जिसे सेवानिवृत्ति या ढलान की अवस्था कहते हैं। अधिकांश कर्मचारी उनके जीवन के इस निर्वाण के नए चरण में पहुँचते हैं और उन्हें पता ही नहीं होता कि उससे कैसे जूझा जाए। उन्हें आगे क्या होने वाला है, इसकी कोई कल्पना नहीं होती। और सबसे बड़ी बात, उन्हें नहीं पता होता है कि उनके जीवन के आने वाले तीन दशकों में उन्हें चिंता करने या भयभीत होने की कोई ज़रूरत नहीं है।

वे सेवानिवृत्त जो अपनी सेवानिवृत्ति को ठीक मुँह बायें खड़ा पाते हैं, उन्हें घर पर अकेले बैठे रहने की भी चिंता सताती है, उन्हें लगता है वे घर की चार दीवारी में अपने जीवनसाथी के साथ कैद हो जाएँगे। उन्हें इस बारे में परामर्श लेना चाहिए कि वे अपने जीवनसाथी के साथ इस तरह रिश्ते को नए सिरे से अगले तीन दशकों तक कैसे संभाल पाएँगे और समायोजन की यह प्रक्रिया लगभग उसी तरह होगी जैसी उन्होंने नई-नवेली शादी होने पर आजमाई थी। ऐसे सेवानिवृत्त जिनके बच्चे अभी भी उसी घर में रहते हैं, उन्हें समझना होगा कि नई पीढ़ी के इन लोगों की उनके घर बैठने पर क्या प्रतिक्रिया होगी कि दो कमाने वाले अब एक साथ इतना समय घर पर रहेंगे।

सेवानिवृत्तों को सेवानिवृत्ति के बाद के उनके जीवन के प्रति उन्हें औपचारिक वातावरण में अच्छे से समझाकर विश्वास दिलाना होगा और उसके लिए उन्हें यह भी कहना होगा कि केवल सर्वशक्तिमान ईश्वर से प्रार्थना करने और पूरे दिन भजन-कीर्तन कर अंतिम दिन की प्रतीक्षा करने के अलावा भी जीवन में बहुत कुछ है।

नियोक्ता अपने सेवानिवृत्त लोगों के जीवन की चुनौतियों को अच्छे से समझकर उनकी मदद कर सकते हैं और उन्हें करनी भी चाहिए और उन्हें वित्तीय सुयोजनाओं का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित कर उन्हें शामिल करवाना चाहिए। निश्चित ही, सेवानिवृत्त लोगों से भी यह उम्मीद है कि वे सेवानिवृत्त के रूप में अपनी योजनाओं को खुद बनाने में भागीदारी दिखाएँ।

भारत में हमारे सामने सेवानिवृत्ति की चुनौतियाँ अधिक गंभीर हैं। कामकाजी जीवन से सेवानिवृत्त जीवन बिताना कठिन है और नियोक्ता को अपने वफ़ादार सेवानिवृत्तों के जीवन के नए चरण में सहायता करनी चाहिए। भारत जैसे-जैसे वृद्ध हो रहा है, भले ही यह दुनिया का सबसे युवा देश हो, हमें सेवानिवृत्ति के बारे में बात करना शुरू कर देना चाहिए और इस विषय को इस बिंदू पर नहीं छोड़ना चाहिए कि – जब होगा तब देखा जाएगा।

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं. वे ५ बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं.

ट्विटर : @gargashutosh                 

इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56

ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

 

12 Learnings for Startup Entrepreneurs

161216-startups

Building a new company is a huge challenge. An entrepreneur has a very lonely job at the top with very limited people one can turn to for help or advice. Yet, every entrepreneur faces very similar challenges that need to understood and addressed in our own unique ways. It is important to be a “learning” entrepreneur so that 24 hours in your day are optimally utilised for the benefit of your people and your business.

In this article, I am highlighting 12 of the challenges that I have faced while building my company.

No task can be too large or too small for you

As the founder, you have to adapt, accept, adjust, create, innovate, motivate and deliver. You need to function as the Chief Executive Officer on the one hand and the Chief Janitor on the other. Therefore, no task can be too large or too small for you. In the early days of funding my company, I have cleaned office and store floors while preparing for a board meeting or an investor meeting.

Share Information

Sharing information about what is going on in your startup will help in bringing a level of awareness and hence the commitment to the business plan. However, sharing information should be done on a “need to know” principle. Therefore sharing the detailed financials of the company with the junior most employee may not necessarily be a very wise decision.

Adjust your management style

As you build your startup, your small team of colleagues will expand and the people closest to you will start to feel insecure of the new entrants because you will not be able to spend as much time your old colleagues as you used to. At the same time, your new colleagues will want more and more of your time so that they can deliver what they have committed to achieve. You will need to adjust the way you manage all your colleagues without letting anyone feel insecure or unwanted.

Lead by example

Most startups need long hours and while you, as the founder, are willing to work 24 X 7, your colleagues may not necessarily feel the same level of commitment. Lead by example. When your colleagues see you doing things that they would normally not do, the barriers will start to break down and everyone would be willing to put their weight behind the success of the business.

Empower through delegation

You would like to believe that no one can do the task better than yourself but remember that there is a challenge in trying to be a “jack of all and master of none”. If you have had the foresight to hire a good management team, empower them properly and delegate tasks so that you have the time and the energy to focus on other matters that your startup needs you to focus on. Besides, your functional heads will have a much better understanding of the issues in their departments than you would.

Set small “bite-sized” milestones

While developing ambitious business plans, please remember to break the big set of numbers into “bite-sized” achievable numbers that people can deliver. For young companies, you will need quick wins to keep a very diverse team of people motivated and committed to working towards the bigger goal. Don’t try and conquer the world in one day!

Remove road blocks and obstacles

See your own role as that of the person who leads the team that will shoot the goal as well as the person who defends the goal. Cut down bureaucracy within your young company. You need to set a scorching pace and as the people start to gather momentum, you need to keep running ahead of them so that you can keep removing and clearing all the road blocks and obstacles.

Give and take feedback

Giving regular feedback is a much better process than to wait till the end of the year and then give your feedback during the annual appraisal cycle. Regular feedback will help your colleagues to course correct as the event happens than wait till the year end. While giving your feedback, remember to ask for feedback as well from your colleagues about what they think about the organisation, your plans and possibly on your own management style. An open culture will foster strong bonds between colleagues and an excellent work culture.

Be judicious with your time

Most founders get involved with every little detail of the business resulting in key tasks that the founder should handle personally getting a lower priority. The same applies when a founder tries to micro manage every employee of the company. You need to be able to focus your time on key tasks and manage the key people. How you define “key” is something you will understand very quickly in your startup when you realise that you seem to be fire-fighting all the time!

Keep your eye on the road

As the founder who has probably invested your life savings in your business venture, make sure that you keep your eye on the road. Keep a close track of your expenses and your revenues. After all this investment is your hard earned money and you need to ensure that it is spent effectively.

Work hard but remember to have fun

Every management team wants to make their work environment interesting and a place they look forward to going to every day. Informal get togethers as a team inside and outside the work place supports bonding among team members. Show a little bit of your own vulnerabilities at such events and you will be surprised at how much team members will start to share with you.

Say a sincere thanks whenever you can

Startups can be very high pressure environments and not everyone is able to handle the pressure. At the same time, everyone likes a word of appreciation from the boss. Coming from the founder, a simple “thank you” carries a lot of weight. Be generous with your appreciation. Your colleagues will love you for this.

Undoubtedly, these are a tough set of learnings that need to be implemented by most founders but then starting up a new enterprise was never going to be easy!

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies and the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com