Should Startup Entrepreneurs have a Coach?

180908 Business Coaching

Business Coaching, is a direct one-on-one interaction between two individuals in a regular and structured conversation. This is done to address and handle business challenges faced by one individual by drawing upon the experience of another individual. Coaching is done in an environment of complete trust where all matters ranging from work to personal challenges may be discussed once the comfort level starts to increase.

Every Startup Entrepreneur needs a coach.

A majority of Startups all over the world are founded by young men and women in their twenties and possibly in their early thirties. While their ideas are excellent and their energy levels are great, most startups start to falter within a couple of years because of poor / inadequate systems, over aggressive scaling up, weak financial planning, insufficient focus on people management, weak governance or poor execution of their revolutionary ideas.

At the same time, thousands of managers are retiring from the corporate world at the “young” age of between 60 – 65 years after spending almost four decades in specialized or general management positions in major and smaller corporations. At this stage of their lives they clearly have at least another decade of work inside them.

Retirement of senior managers is happening in all parts of the world and is a consequence of the superannuation policies of the employer rather than the competence or the age of the individual. These people know what it is like to run businesses and tackle the challenges of building businesses. They have functional expertise in finance and accounts, budgeting, packaging, branding, sales, human resources, governance, legal matters and general management.

With a little bit of training, most of them can become excellent coaches.

Therefore, logically, there is a huge opportunity to bring together the vision of the Startup Entrepreneur and the experience of the older manager in an unobtrusive and non-threatening manner for the entrepreneur. Older individuals can connect with the entrepreneur as coaches (or in some cases as employees), depending on the need of the individuals.

Not every superannuated individual has the energy or the risk taking capability to start a business enterprise on their own. At the same time, the older managers, in the twilight of their careers, are not yet ready to hang up their gloves. Most of these older individuals would be reasonably financially secure. They are looking to give back their life’s learnings while staying occupied, and earning some money (which could be in the form an equity option as well). Further, they will be much more stable for a startup. They will not resign and walk away in a hurry because they did not like the way they may have been spoken to or because another exciting opportunity has come up.

For the entrepreneur, it is a very lonely job and there are very few people he can trust. Most young entrepreneurs need a sounding board in a non-threatening manner with someone who has no agenda with the individual or the business. Given the significant work pressures Startup Entrepreneurs face, they need someone to discuss their issues and allow them to vent.

They will not say what the startup entrepreneur wants to hear and after a long work innings, hopefully, they would have learned how to manage their personal egos in front of the young team that they wish to be a part of.

A coach should see their success in the success of their younger colleague and not attempt to score brownie points directly with the teams.

In addition to watching the back of the startup entrepreneur and guiding them when the ship invariably hits troubled waters, a coach will also bring in strong subject matter knowledge from the domains they would have spent decades working in.

Most startups face issues in the following areas and an experienced professional can provide invaluable inputs for the startup team.

Some of these areas outlined below.

People Strategies – Most entrepreneurs struggle with their people strategies. The people who started off with the entrepreneur may not be the best to take the business to the second and third level. Even the entrepreneur needs to stay ahead of the curve to manage a fast growing business. A coach can evaluate the people and help in identifying new resources at each stage of the growth.

Business Planning and Review – Startups are famous for making plans and then not meeting them! A good coach can work closely with the entrepreneur and the top management team to develop an achievable business plan and more importantly, hold quarterly reviews. This will ensure that the entrepreneur and leadership team is held accountable for what they commit in each quarter.

Good Governance Practices – All Startups should normally be started with the objective of building a strong and stable business which can mature into an institution. A coach will ensure that the entrepreneur will build good governance and transparent practices in the organisation.

Even something as mundane as ensuring board meetings are held on time and minutes are properly recorded is an area where startups have been known to slip up.

Fund Raising – While most startups are looking for funding from Angel Investors and Private Equity Investors, there is a large opportunity for raising funds from banks though debt and working capital financing. A coach with a strong finance senior background will bring in much needed contacts and experience to reach out to the banking system.

External Relations – Most businesses, irrespective of the sector they are addressing, need a strong connect with the external world. These connections could be with bureaucrats, politicians, environmental activists or the local councilor. An experienced coach will have the patience to handle these external challenges. This could also include developing a strong public relations contact programme with the print and visual media.

Legal Processes – In addition to hiring legal help during formation and fund raising, most businesses are faced with a lot of legal challenges. Once again, an older and more experienced coach will bring wisdom in handling such matters. Which cases to pursue and which ones to drop is a critical decision to save valuable managerial time, resources and of course, money.

Playbook / Standard Operating Procedures – In the hurry to get started, very often standard operating procedures get lost in the detail. These need to put in place very early in the game so that mistakes are not repeated. An experienced manager tasked with this will be able to put in place such a manual / playbook that would serve the company well into the long term.

Having mentored several startup entrepreneurs, I have seen the value a coach who has “been there done that” can provide to a startup entrepreneur.

I have often said that the combination of young energetic legs with grey hair would be a win-win combination for all Startups. To draw a parallel from hockey or football, the entrepreneur is the centre forward rushing to shoot goals and win while the older manager is the goal keeper who will protect the companies turf and ensure that self-goals are not scored!

What is important for both the parties is to mutually select the right set of individuals. What is important is to develop mutual trust and confidence between the two individuals to build a win-win combination for the success of the business.

In other words, every Startup Entrepreneur needs a coach.

Experience Never Gets Old!

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies. A keen political observer, he is an Angel Investor and Executive Coach. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  •  Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

Retirement – Today’s 60 is yesterday’s 40

2. Reboot. Reinvent. Rewire Managing Retirement in the Twenty First CenturyIn a country which is the “youngest” country in the world, where over 700 million of us are under the age of 30, we have an increasing number of people who are growing old as well.

Just like the baby boomers in USA, India too has its post-independence children, born after 1947. The oldest of these children will be in their early to late-sixties in 2015 and a majority of these pre-independence kids may probably still be working but thinking of the impending retirement.

Looking back on the years gone by I am sometimes amazed at the resilience and persistence exhibited by us mere mortals in our lives. In our effort to make ends meet and prepare for our future we are often forced to endure thankless and sometimes abusive work environments for years on end. Stress becomes our new best friend as we attempt to pay never ending day to day bills while somehow also providing for big ticket expenses like education, clothes, cars and weddings. We are forced to delay the pursuit of our own interests and passions because there is either not enough time or not sufficient free money.

As I pondered over and debated my own reality, I was curious about my peers’ attitudes toward retirement

I spoke with many friends, both men and women over 60 who were either already retired or were just starting to think about it. What I found most shocking was the level of denial and postponement in thinking about the subject of retirement. While many people had been diligent about saving and investing, few had considered the psychological jolt that usually accompanies the end of an active working career.

My first realisation was that I would have a much greater degree of freedom under my control. I don’t have to do but I do what I please to do. I have therefore redefined retirement to mean “Reaching a stage in life when one has the freedom to do what one wants.” I am reminded of an old poem I read

At ten, we have just fun

At twenty, we are still naughty

At thirty, we think lofty

At forty, we get shifty

At fifty, we confront reality

At, sixty, we seek serenity

Author – Unknown

However in today’s day and age, the retirement paradigm has changed completely from what we have seen with our parents and probably our grandparents. While the message may be the same, the ages have certainly changed over the past three decades.

“Yesterday’s 60 is today’s 40” said a close friend to me when we were discussing getting older.

“Age is only a number” said another

So working in our regular jobs as employees till we are between 60 and 65 is something we can normally expect to do as per ore terms of employment.

When I started work in 1979 at the age of 22 the retirement age in my company was 52 years and I used to think that three decades was a long way off. A few years later the retirement age was raised to 55 and like me, a lot of young managers in the company complained about how top management was interfering with our careers by allowing the “oldies” to stay on for another 3 years! Today as I approach 58, I wonder what it would have been like to have retired when I consider that I am at the peak of my career.

As we reach the age of superannuation or retirement, I see so many of friends becoming insecure and afraid of becoming irrelevant. When it is time to retire, we forget what we told ourselves. What has changed in the last three decades that we are afraid to slow down or pace of work or recognize that our minds and bodies are ageing?

Most of us would have achieved what one set out to at the start of one’s career or we would have accepted that what one has achieved is all that is possible in the career that we have chosen. We would have also seen the push coming from our younger colleagues in the work place to move aside to let the youth brigade move forward faster.

There is no point in agonizing over the past because there is nothing that we can do about it. I have always believed in looking ahead with a positive frame of mind.

Yet most people if they have led a relatively healthy life will, with modern medicine see our life expectancy increase significantly. Our parents would generally be well into their eighties and we could expect them to live in to their nineties. Given the right set of genes, there is no reason why we would not live to at least 90 years of age, maybe more if we have not abused our body too much.

Retirement is not the end of the world.

It is the beginning of a new and more fulfilling life without the stresses and strains, the pulls and pressures we had when we were young. We may have looked forward to retirement but a fulfilling retirement will not just happen. You have to plan for it and you have to plan by including the most important person in your life, your spouse. Unless both of you are in agreement with your plans, prepare for dissonance in both your lives.

At the same time, I realized that with ageing parents, the baton for the next generation was passing to me. The next generation of children in my family was looking up to me. When I visited their homes, I would be seated first. I would be served first at dinner and when I spoke they would listen attentively. It was difficult to handle this contradiction. On the one hand I was beginning to feel less relevant at work and in the society that I knew and on the other hand I was being respected more by the next generation.

I have met several people and discussed with them their challenges and their thoughts as they faced retirement. I have spoken to people in their thirties and forties as they agonised over making plans for the retirement of their parents. I have spoken to spouses who are preparing for a life with a much more inclusive husband post his retirement and I have spoken to husbands who have had very successful career and spouses who are wondering how life will be for the two of them now that both of them have “all the time in the world to spend together”.

Let me draw a parallel to retirement with a setback.

It is a stop in our life and we need to restart with a new direction and with renewed vigour. Think back to a recent setback or disappointment in your career or personal life. Think about how you felt. How long did it take for you to bounce back? Did you formulate an action plan? Did you blame yourself, or others? Did you eat a big plate of sweets or ice cream to give yourself a “sugar fix”?

How you handle a setback defines who you are. Let’s say there are two ends of the spectrum – the optimist and the pessimist. You may be at any point of the spectrum.

  • The optimist experiences a challenge. They see it as a temporary situation, something that they’ll get past. An optimist will often make a plan for recovery, and take action. An optimist looks to the future.
  • A pessimist is at the opposite end of the spectrum. They see a problem, and the problem affects every aspect of their life, and no solution to the problem is in sight. There is usually someone to blame for this problem. Have you ever tried to help a pessimist solve a problem? They will argue with you that every possible solution will not work. There is no happy future, all is hopeless.

A pessimist will say that an optimist is not realistic. Maybe that is the case. However, perhaps that slightly unrealistic view is what allows the optimist to meet the challenge head on and succeed.

How can you move along your place on the retirement spectrum to be on the positive side as you look to reinvent, reboot and rewire your life?

Examine your behaviour pattern. Be honest with yourself.

  • When a challenge arises, step back and see it for what it is. Look for the opportunity within the challenge. Sometimes the opportunity is merely the experience gained from getting through it.
  • Don’t let the problem become your life.
  • Move into action to resolve the problem immediately. Make a plan and get started.
  • Believe in yourself and your power.

Cast off society’s belief about aging and retirement. Optimists may have greater success, health and happiness. Pessimists may experience a self-fulfilling prophecy of unhappiness and despair. You choose your spot on the spectrum from where you will make the start to rebooting your life.

In conclusion it is my belief our new life ahead can be the adventure of a lifetime. It doesn’t have to be a permanent rest. Ask yourself whether your negative beliefs about retirement are getting in the way of how you really want to live the “third half” of your life.

*******************

The author is a Political Commentator, an Angel Investor and Executive Coach. He is an entrepreneur and the founder Chairman of Guardian Pharmacies. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

सेवानिवृत्ति – आज का 60, जो कल 40 का था

 

2. Reboot. Reinvent. Rewire Managing Retirement in the Twenty First Century

वह देश जो दुनिया का “सबसे युवा” देश है, जहां 700 मिलियन से भी अधिक लोग 30 वर्ष से कम उम्र के हैं, लेकिन हमारे उसी देश में बढ़ती उम्र के लोगों की संख्या भी बढ़ रही है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में बेबी बूमर्स (‘बेबी बूमर’ वर्ष 1946 और वर्ष 1964 के बीच पैदा हुए व्यक्तियों के लिए वर्णनात्मक शब्द है।) की तरह, भारत में भी स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद जन्मे बच्चे हैं, जिनका जन्म वर्ष 1947 के बाद हुआ था। इन बच्चों में से सबसे उम्रदराज़ वाले वर्ष 2015 में साठ पार होने को आए या साठ के आस-पास हैं, हालाँकि इनमें से कुछ अभी भी काम कर रहे हैं लेकिन आसन्न सेवानिवृत्ति का विचार करने लगे हैं।

सबसे पुराना 2015 में अपने साठ के दशक के उत्तरार्ध में होगा और इनमें से अधिकतर स्वतंत्रता वाले बच्चे शायद अभी भी काम कर रहे हैं लेकिन आने वाली सेवानिवृत्ति के बारे में सोच रहे हैं।

अपने बीते दिनों के बारे में सोचकर कभी-कभी मैं चकित रह जाता हूँ कि तब हममें से कई अपनी ज़िंदगी में केवल मनुष्यों की तरह कई बार बहुत अधिक लचीले और बहुत अधिक दृढ़ रहे थे। पर तब अंतिम समय तक हम काम में लगे रहे थे और अपने भविष्य की तैयारी करते हुए हमें अक्सर अंत के वर्षों तक नाशुक्राना और कभी-कभी अपमानजनक कार्य वातावरण सहन करने के लिए मजबूर होना पड़ा था। तनाव हमारा सबसे अच्छा नया दोस्त बन जाता है क्योंकि हम कभी न ख़त्म होने वाले रोज़-ब-रोज़ के बिलों को भरते रहने की कोशिश में लगे रहते हैं जबकि कभी भी हमारा पत्ता पढ़ाई-लिखाई, कपड़ों-लत्तों, बड़ी गाड़ियों और शादियों जैसे बड़े खर्चों में कटता रहता है। हमें न चाहते हुए अपनी इच्छाओं और जज़्बे की तलाश को काफ़ी देर तक रोके रहना पड़ता है क्योंकि या तो हमारे पास पर्याप्त समय नहीं होता या उतना अतिरिक्त पैसा नहीं होता है।

ज्यों ही मैंने मंथन किया और अपनी खुद की वास्तविकता पर ज़िरह की, मैं सेवानिवृत्ति के बारे में अपने साथियों के दृष्टिकोण को जानने के लिए उत्सुक हो गया।

मैंने कई मित्रों से बात की, 60 वर्ष की आयु से अधिक पुरुषों और महिलाओं दोनों से, जो या तो सेवानिवृत्त हो चुके थे या जिन्होंने अभी-अभी इसके बारे में सोचना शुरू किया था। सबसे चौंकाने वाली बात जो मैंने देखी वह यह थी कि लोग सेवानिवृत्ति विषय पर सोचना तक नकार रहे थे और इस मुद्दे की बात को स्थगित रहने देना चाहते थे। जबकि कई लोग बचत और निवेश के बारे में चिंताशील थे, कुछ ने इसे मनोवैज्ञानिक झटका माना था जो आम तौर पर किसी सक्रिय कामकाजी करियर के अंत में होता है।

जबकि मुझे पहले-पहल लगा था कि मेरी स्वतंत्रता पर सर्वाधिक नियंत्रण मेरा होगा। मुझे कुछ भी इसलिए नहीं करना है कि उसे करना ज़रूरी है, बल्कि अब मैं वह करता हूँ जिसे करना मैं पसंद करता हूँ। इसलिए मैंने सेवानिवृत्ति को इस अर्थ में परिभाषित किया है, “जीवन के ऐसे पड़ाव पर पहुँचना जब किसी को अपनी इच्छा से जीने की आजादी मिलती है।” मुझे एक कविता याद हो आई, जो मैंने बहुत पहले कहीं पढ़ी थी…

दस बरस की आयु में, हम बस मजे करते हैं

बीस बरस के होने पर भी, हम शरारती ही रहते हैं

तीस साल की उम्र में, हम बुलंद सोच रखते हैं

चालीसवें वर्ष में, हम सोचविचार करने लगते हैं

पचास वर्ष की आयु में, हम वास्तविकता का सामना करते हैं

साठ के होने पर, हम शांति की तलाश करते हैं

 लेखकअज्ञात

तथापि इन दिनों और इस काल में सेवानिवृत्ति के मायने उससे पूरी तरह से बदल गए हैं जिसे हमने अपने माता-पिता या बहुत हद तक दादा-दादी के दौर में देखा था।

आज के दिन और उम्र में, हमारे माता-पिता और शायद हमारे दादा दादी के साथ हमने जो देखा है उससे सेवानिवृत्ति प्रतिमान पूरी तरह से बदल गया है, हालाँकि संदेश वही हो सकता है, लेकिन पिछले तीन दशकों में उम्र निश्चित तौर पर बदल गई है।

जब मैं अपने निकट के एक मित्र से बुढ़ापे को लेकर चर्चा कर रहा था तो उसने मुझे कहा कि “कल का जो 60 था वह आज का 40 है।”

दूसरे का कहना था.. “आयु केवल एक आँकड़ा है”

इसलिए कर्मचारियों के रूप में सामान्य रूप से रोजगार की शर्तों के अनुसार अपनी नियमित नौकरियों में रहते हुए जब तक हम 60 से 65 वर्ष के नहीं हो जाते,तब तक हमसे काम करते रहने की अपेक्षा की जा सकती हैं।

जब मैंने वर्ष 1979 में 22 साल की आयु में काम करना शुरू किया था, तो मेरी कंपनी में सेवानिवृत्ति की उम्र 52 साल थी और तब मुझे लगता था कि तीन दशकों का लंबा सफर काफी दूर है। कुछ सालों बाद सेवानिवृत्ति के लिए 55 वर्ष की आयु कर दी गई थी और मेरे जैसे, कंपनी के कई युवा प्रबंधकों ने शिकायत की कि शीर्ष प्रबंधन भला ऐसे कैसे “वृद्धों” को 3 साल तक और रहने की अनुमति देकर हमारे करियर से खिलवाड़ कर रहा था! आज जब मैं 58 वर्ष के मुकाम पर पहुँच गया हूँ, मैं विस्मित होता हूँ कि अब जबकि मैं अपने करियर के शिखर पर हूँ तो ऐसे में सेवानिवृत्त होना कैसा रहेगा!

जैसे ही हम पेंशन पाने की या सेवानिवृत्ति की आयु तक पहुँचते हैं, तब मैं देखता हूँ कि बहुत सारे दोस्त असुरक्षित महसूस करने लगते हैं और अप्रासंगिक हो जाने से डरने लगते हैं। जब रिटायर होने का समय आ जाता है, तब हम भूल जाते हैं कि हमने खुद से क्या कहा था। पिछले तीन दशकों में ऐसा क्या बदल गया कि हम धीमे पड़ जाने या काम की गति कम हो जाने या इसे समझ पाने कि हमारे दिमाग और शरीर की उम्र बढ़ रही हैं, डरने लगे हैं?

हममें से अधिकांश ने वह हासिल कर लिया होगा जिसे उसने अपने करियर की शुरूआत में पाना तय किया था या दूसरी स्थिति में हमने स्वीकार लिया होगा कि अपने इस करियर चुनाव में जितना हासिल हो सकता था, हमने हासिल कर लिया है। हम उस दौर से भी गुज़र गए जब हमसे युवाओं ने कार्यस्थल पर अपनी जगह बनाने के लिए हमें धकेलना शुरू किया था ताकि वे हम दरक़िनार हो जाएँ और युवाओं का दल तेजी से आगे बढ़ सकें।

बीते कल के बारे में सोच-सोचकर हलक़ान होने में कोई तुक नहीं है क्योंकि जो बीत गया उसे अब हम बदल नहीं सकते हैं। मैंने हमेशा सकारात्मक रूप से सोचते हुए आगे देखने में विश्वास किया है।

तब भी यदि ज्यादातर लोग अपेक्षाकृत अधिक स्वस्थ जीवन जीते हैं, तो आधुनिक चिकित्सा के साथ हमारी जीवन प्रत्याशा में उल्लेखनीय वृद्धि होगी। सामान्य रूप से हमारे माता-पिता अपने अस्सी के दशक में अच्छे रहेंगे और हम उम्मीद कर सकते हैं कि वे अपने नब्बे के दशक में हमारे साथ रह सकें, शायद और भी ज़्यादा अगर हमने अपने शरीर के साथ बहुत ज़्यादा दुर्व्यवहार नहीं किया हो।

सेवानिवृत्त होना दुनिया का अंत नहीं है।

यह तनाव और घोर परिश्रम के बिना एक नए और अधिक पूर्ण जीवन की शुरुआत है, जब हम युवा थे तब हम बहुत दबाव और खींचाव में रहते थे। हम सेवानिवृत्ति के लिए तत्पर थे लेकिन एक परिपूर्ण सेवानिवृत्ति कभी हो ही नहीं पाई। आपको इसके लिए योजना बनाना है और इस योजना में आपको अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति, अपने जीवनसाथी को शामिल करना है। जब तक आप दोनों अपनी योजनाओं से सहमत नहीं होंगे, तब तक आप दोनों के जीवन में विसंगति बनी रहेगी।

साथ ही, मुझे एहसास हुआ कि बुजुर्ग माता-पिता के साथ अगली पीढ़ी की कमान मेरे पास आ रही थी। मेरे परिवार के अगली पीढ़ी के बच्चे मेरी ओर देख रहे थे। जब मैं उनके घर जाता, तो सबसे पहले बैठने का सम्मान मुझे मिलता था। रात का भोजन भी पहले मुझे परोसा जाता और जब भी मैं कुछ कहता, मेरी बातों को ध्यान से सुना जाता। इस विरोधाभास का समायोजन करना मेरे लिए मुश्किल था। एक ओर मैं अपने कार्यस्थल और समाज में कम प्रासंगिक महसूस करने लगा था, जबकि कभी मुझे लगता था कि मैं हर चीज़ काफी अच्छे तरीके से जानता हूँ और दूसरी तरफ मुझे अगली पीढ़ी से बहुत सम्मान मिल रहा था।

मैंने कई लोगों से मुलाकात की और उनसे  उनके सामने खड़ी चुनौतियों और उस पर उनके विचारों को जाना क्योंकि उन्हें सेवानिवृत्ति का सामना किया था। मैंने उन लोगों से बात की, जो अपने तीसवें और चालीसवें वर्ष में है क्योंकि वे अपने माता-पिता की सेवानिवृत्ति के बाद की योजनाएँ बनाकर हलक़ान थे। मैंने उन पत्नियों से बात की, जो अदद पतियों की सेवानिवृत्ति के बाद उनके साथ के नव सहजीवन की तैयारी कर रही हैं और मैंने उन पतियों से बात की जिन्होंने बहुत सफल करियर जीया है और अब उनकी पत्नियाँ सोच रही हैं कि अब दोनों के लिए जीवन कैसे होगा, क्योंकि दोनों को “पूरी दुनिया में हर समय एक साथ बिताना पड़ेगा।”

चलिए मैं सेवानिवृत्ति के साथ की नाकामयाबी की रेखा खींचता हूँ।

यह हमारे जीवन पर लगा पूर्णविराम है और हमें नई दिशा और नवीनीकृत शक्ति के साथ पुनरारंभ करने की आवश्यकता है। अपने करियर या निजी जीवन के हालिया झटके या निराशा के बारे में सोचें। सोचें कि तब आपको कैसा लगा था? आपको वापस अपनी पहली स्थिति में आने के लिए कितना समय लगा था? क्या आपने कोई कार्य योजना तैयार की थी? क्या आपने उस समय खुद को या दूसरों को इसके लिए दोषी ठहराया? क्या तब आपने “शुगर फिक्स (जीने का ज़ायका ठीक)” रखने के लिए मिठाई या आइसक्रीम की बड़ी प्लेट खा ली थी?

आप जीवन में लगे किसी धक्के से कैसे उबरते हैं, वहीं परिभाषित करता है कि आप क्या हैं? चलिए, इसे ऐसे समझते हैं, मान लीजिए कि स्पेक्ट्रम (रंगावली) के दो सिरे हैं – आशावादी और निराशावादी। आप स्पेक्ट्रम के किसी भी बिंदु पर हो सकते हैं।

  • आशावादी हर चुनौती का अनुभव लेते हैं। वे इसे अस्थायी स्थिति के रूप में देखते हैं, कुछ ऐसा जो कभी अतीत हो जाएगा। आशावादी अक्सर वैकल्पिक योजना बना लेते हैं, और उस पर काम करने लगते हैं। आशावादी व्यक्ति भविष्य देखता है।
  • निराशावादी स्पेक्ट्रम के विपरीत छोर पर हैं। उन्हें हर काम में समस्या दिखती है, और समस्या उनके जीवन के हर पहलू को प्रभावित करती है, और समस्या का कोई समाधान उनकी दृष्टि में नहीं होता है। आमतौर पर वे समस्या के लिए किसी को दोषी ठहरा देते हैं। क्या आपने कभी किसी निराशावादी को समस्या हल करने में उसकी मदद करने की कोशिश की है? वे आपसे हर बार बहस करेंगे कि हर संभव समाधान काम नहीं करेगा। उनके हिसाब से कोई अच्छा भविष्य नहीं है और सभी निराशाजनक है।

निराशावादी कहेंगे कि एक आशावादी यथार्थवादी नहीं है। शायद किसी मामले में ऐसा हो सकता है। हालांकि, शायद यह थोड़ा अवास्तविक विचार है जो आशावादी को चुनौती को पूरा करने और सफल होने की अनुमति देता है।

आप अपने उसी स्थान पर रहते हुए सेवानिवृत्ति स्पेक्ट्रम में सकारात्मक पक्ष के साथ जीवन को रीइंवेन्ट (पुनर्जीवित), रीबूट और रिवाईर (फिर से जीना) करना चाहते हैं, तो आप कैसे आगे बढ़ सकते हैं?

अपने व्यवहार स्वरूप की जाँच करें। खुद के प्रति ईमानदार रहे।

  • जब कोई चुनौती खड़ी होती है, तो एक कदम पीछे लें और देखें कि आख़िर मसला क्या है। चुनौती में छिपे अवसर की तलाश करें। कभी-कभी अवसर केवल उस माध्यम से प्राप्त होने वाले अनुभव से मिलता है।
  • समस्या को अपना जीवन न बनने दें।
  • तुरंत समस्या हल करने के लिए कार्रवाई में लग जाएँ। एक योजना बनाएँ और शुरू कर दें।
  • अपने आप में और अपनी शक्ति पर विश्वास करें।

उम्र बढ़ने की और सेवानिवृत्ति को लेकर समाज की धारणा को दूर कर दें। आशावादी को अधिक सफलता, स्वास्थ्य और खुशी मिल सकती है। निराशावादी दुःख और निराशा की खुद ने ही की भविष्यवाणी का अनुभव कर सकता है। आप स्पेक्ट्रम पर अपना स्थान चुनें, जहाँ से आप अपने जीवन को रिबूट करने की शुरुआत करेंगे।

अंत में यह मेरा विश्वास है कि हमारा नवजीवन, जीवन भर का साहस हो सकता है। यह स्थायी विश्राम नहीं होना चाहिए। अपने आप से पूछें कि सेवानिवृत्ति के बारे में आपकी नकारात्मक मान्यताएँ कहीं आपके जीवन के “तीसरे आधे” जीने के अपने तरीके के आड़े तो नहीं आ रही है!

*******************

लेखक राजनीतिक समीक्षक, एंजेल निवेशक और कार्यकारी कोच हैं। वे गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं। वे 5 बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं।

  • ट्विटर : @gargashutosh                                      
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56                                      
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

प्रधान मंत्री इमरान खान

पाकिस्तान में बहुप्रतीक्षित चुनाव संपन्न हुए और परिणाम हालाँकि थोड़े विवादास्पद रहे लेकिन उसके बावजूद घोषित हो चुके हैं।

इमरान खान जनता की पसंद है और वे स्वतंत्र उम्मीदवारों को मिलाकर उस जादुई संख्या को पाने की जुगाड़ में है, जिसके बाद वे शपथ ले सकते हैं। चुनाव सेना द्वारा “प्रबंधित” थे या नहीं, अब यह कोई मुद्दा नहीं है। अब इमरान खान पृथ्वी के सबसे खतरनाक राष्ट्रों में से एक के नेता हैं। अपने प्रारंभिक भाषण में उन्होंने भारत के बारे में समोचित उद्गार व्यक्त किए जान पड़ते हैं लेकिन तब भी उन्होंने कश्मीर मामले में अपने देश की लकीर का फ़कीर होने का फैसला किया।

राजनीतिक प्रवक्ताओं और दुनिया भर के मीडिया द्वारा इन चुनावों की बड़े पैमाने पर आलोचना हुई। तालिबान का करीबी होने को लेकर इमरान की आलोचना की गई है।  उनकी पूर्व पत्नी रेहम ख़ान द्वारा बताई गई सभी बातें किताब में उनकी प्लेबॉय छवि को उकसाने की कोशिश कर रही हैं, जिसमें इमरान खान को “निदेशक का अभिनेता” कहा गया है। इस किताब को चुनाव से ठीक पहले जारी किया गया था लेकिन उसका कोई ख़ास असर पड़ा हो, ऐसा नहीं दिखा।

भारत और शेष दुनिया को अगले 5 वर्षों तक इमरान खान और उनके समर्थकों से निपटना होगा। भारत ने एहतियात बरतते हुए इमरान की जीत का स्वागत किया है और दक्षिण एशिया को आतंक और हिंसा से मुक्त करने की अपनी बात दोहराई है।

दो प्रमुख विपक्षी नेता और उनके दल, नवाज शरीफ (पीएमएल-एन) और बिलावल भुट्टो (पीपीपी) हार गए, लेकिन तब भी मजबूत और विश्वसनीय विपक्ष प्रदान करने में सक्षम होने के लिए पर्याप्त सीटें हासिल करने में वे कामयाब रहे हैं, बशर्तें अगर वे अपने ही मुद्दों को ठीक तरीके से सुलझाने में सक्षम हो जाते हैं, तो! दोनों पक्षों ने चुनाव परिणामों को खारिज कर दिया है हालाँकि पीएमएल (एन) ने पंजाब प्रांत में जीत पर सवाल नहीं उठाया है और न ही पीपीपी ने सिंध में बहुमत पर सवाल उठाया है। उनकी चुनाव के बाद की टिप्पणियाँ केवल अपने राजनीतिक पदों और अपनी असफलताओं के कारणों पर लिपा-पोती करने के रूप में देखी जानी चाहिए।

पाकिस्तानी मतदाता ने हफीज सईद की धार्मिक और भारत विरोधी राजनीति को दृढ़ता से खारिज कर दिया है, लेकिन वह और उसका संगठन अब भी बना हुआ है। ऐसा तब तक चलता रहेगा जब तक वह पाकिस्तानी सेना द्वारा शासित नहीं होता है, जो हो नहीं सकता है, तो वह ऐसे ही अपने लड़ाई उकसाने के काम और भारत के खिलाफ आतंकवादियों के खुले प्रशिक्षण को जारी रखेगा। दूसरी ओर स्वयंभू न खेलने वाले कप्तान जनरल परवेज मुशर्रफ़ हैं, जिन्होंने खुले तौर पर स्वीकार किया है कि वे हफीज सईद की प्रशंसा करते हैं,जो चुनाव लड़ने की धमकी दे रहा था, जिसने अब ख़ुदबख़ुद छोटे पर्दे और युद्ध भड़काने वाले “विशेषज्ञों की टिप्पणियों” को अपनी ओर से कुछ प्रदान करना कम कर दिया है।

इमरान खान की “नया पाकिस्तान” की जीत के क्या प्रभाव हैं?

  1. काफ़ी लंबे समय बाद, पाकिस्तान ने ऐसे नेता चुना है जो भ्रष्ट नहीं है और जिसने अप्रैल 1996 में तहरीक-ए-इंसाफ की स्थापना के बाद से तंत्र से लड़ते हुए अपने लचीलेपन को दिखाया है। उन्हें विभिन्न मोर्चों पर बार-बार लक्षित किया गया है, लेकिन शासन में सुधार लाने और भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए वे डटे हुए हैं। फिर भी, 269 सदस्यीय विधानसभा की 115 सीटों के साथ, उन्हें 15 अतिरिक्त विधायकों के समर्थन की जरूरत है। यह देखना दिलचस्प होगा कि ये स्वतंत्र विधायक समर्थन देने की कीमत के रूप में क्या माँग करेंगे और इसका उनके शासन पर क्या प्रभाव पड़ेगा।
  2. उन पर पाकिस्तानी सेना का वरद हस्त है और इसे सकारात्मक विकास के रूप में देखा जाना चाहिए। सेना हमेशा से या तो राजनीतिक दल के सीधे नियंत्रण में रही है या उसके साथ विरोधी संबंध में रहे हैं। अब वह इमरान खान का समर्थन कर रही है, जो लोकतांत्रिक जीत के कुनबे में हैं, इससे भारत और बाकी दुनिया को किसी ऐसे व्यक्ति की बजाए, जो निर्णय लागू नहीं कर सकता है, तख़्त के पीछे की शक्तियों से सीधे निपटने का अवसर मिला है।
  3. पाकिस्तानी मतदाता बेचैन हो रहा है और सारे धार्मिक प्रचार से थक गया है। आजादी के बाद से पिछले सात दशकों में वह समृद्धि के लिए धैर्यपूर्वक इंतजार कर रहा है। मतदाताओं ने भारत का महती विकास देखा है और ऐसे नेता की तलाश में हैं जो उनके देश का भी आर्थिक विकास कर सके। इमरान खान को अपने पिछड़े राष्ट्र के लिए कार्य करने का अवसर मिला है।
  4. पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था दिवालियापन की कगार पर है। देश भारी कर्ज में डूबा हुआ है और उसके पास पैसा नहीं है। पाकिस्तानी रुपया अब तक का सबसे कमजोर है, जिससे बाहरी ऋण और भी बड़ा हो गया है। जून 2018 में, पाकिस्तान को वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) द्वारा फिर से आतंक वित्तपोषण पर नज़र रखने की सूची में रखा गया था। इमरान खान को पैसा खड़ा करने और अर्थव्यवस्था के पुनर्निर्माण पर काम शुरू करने के लिए कुछ चतुर पैंतरों की आवश्यकता होगी। जब तक कि अर्थव्यवस्था फिर से संभल नहीं जाती और नौकरियाँ और धन निर्माण शुरू नहीं हो जाता है, तब तक किसी भी राजनेता से कुछ और अन्य महत्वपूर्ण करने की उम्मीद नहीं की जा सकती है।
  5. पाकिस्तान के बारे में दुनिया की धारणा शायद अब तक की सबसे कम है। पाकिस्तान में कई सालों से कोई विदेश मंत्री नहीं है। नवाज शरीफ ने इस पोर्टफोलियो को सीधे संभालने का फैसला कर घटिया काम किया। ग्रीन पासपोर्ट को सम्मान का थोड़ा आभास कराने के लिए गहन आत्मविश्वासपूर्ण निर्माण उपायों की आवश्यकता है। आतंकवादियों को समर्थन देना जारी रखते हुए यह भी दावा करते रहना कि पाकिस्तान खुद ही उससे पीड़ित है, दुनिया भर के सत्ता गलियारों में अब स्वीकार्य नहीं है। सऊदी अरब, जिसकी ओर हमेशा पाकिस्तान देखता रहा है, वहाँ भी युवराज शेख हमदान बिन मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के नेतृत्व में महत्वपूर्ण बदलाव आया है। अगर वे बदल सकते हैं, तो पाकिस्तान भी ऐसा कर सकता है।
  6. चीन, पाकिस्तान के सभी मौसमी सहयोगी चीन पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) का समर्थन करने में अपना स्वयं का एजेंडा रखते हैं क्योंकि ऐसा करने से एशिया के आस-पास की लंबी समुद्री यात्रा से बाधित हुए बिना चीनी निर्यात मध्य पूर्व और यूरोप तक पहुँच जाएगा। दूसरी तरफ, चीन अपने उइघुर प्रांत में आतंकवाद से भी परेशान है, जिस पर पाकिस्तान को समर्थन करने का आरोप लगा है। पाकिस्तान को भारत, यूएसए और रूस के साथ मजबूत संबंध बनाने की जरूरत है। इमरान खान ने इसे पहचान कर कहा है कि “आप एक कदम उठाते हैं और हम दो कदम उठाएंगे।”
  7. विपक्षी दल पीएमएल (एन) और पीपीपी संसद में जिम्मेदार विपक्ष की तरह जांच और संतुलन प्रदान करना है और न कि केवल विरोध करना है इसलिए व्यापार बाधित नहीं करते हुए अपने देश के प्रति अपनी वचनबद्धता का प्रदर्शन कर सकते हैं। उनके बीच, उनकी पर्याप्त संख्या है। बिलावल भुट्टो और मरियम नवाज शरीफ़ अभी युवा हैं और उनके आगे राजनीति में लंबा समय पड़ा है। विपक्ष में बैठना सीखने के लिए बेहतरीन अनुभव हो सकता है।

भारत के साथ पूरी दुनिया को इमरान खान को अपने बचाव को छोड़े बिना शासन का अलग मॉडल रखने का मौका देना होगा। शांतिपूर्ण पाकिस्तान इस पूरे क्षेत्र के संवर्धन और विकास में मददगार होगा और इसकी सफलता में सबसे ज़्यादा हिस्सेदारी पाकिस्तान की है।

इमरान खान को अपने देश की कथा बदलने की जरूरत है। अपने देश के भीतर कई विरोधाभासी विचारों को साथ लेकर चलने के लिए उन्हें विकास और सुशासन का सरल वादा देने की ज़रूरत है। उनके लिए अनुकरण करने के दिन खत्म हो गए हैं और आलोचना एवं आरोप लगाने का खेल खेलने का समय आ गया है।

आम पाकिस्तानी नागरिक उन राजनेताओं से ऊब गया है और तंग आ चुका है, जिन्होंने बार-बार पैसे और असीमित शक्ति के लालच का प्रदर्शन किया है और आम पाकिस्तानी के लिए कुछ भी नहीं किया। इमरान खान को बहुत हद तक राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधान मंत्री मोदी की तरह सीधे लोगों से संवाद शुरू करने की जरूरत है, ताकि उनका संदेश सीधे जनता तक पहुँच सके और बीच की व्याख्या में कहीं खो न जाए।

उनके पास अन्य कोई विकल्प भी नहीं है।

इसके अलावा, शायद उनके पास यह एकमात्र अवसर है !

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं। वे 5 बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं।

  • ट्विटर : @gargashutosh                
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56  
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

 

Prime Minister Imran Khan

180730 Pakistan Elections

The much awaited elections in Pakistan are over and the results, albeit controversial, have been declared.

Imran Khan is the people’s choice and is busy cobbling together independent candidates to get to the magical number after which he can be sworn in. Whether the election was “managed” by the army or not is no longer an issue. Imran Khan is now the leader of one of the most dangerous nations on Earth. His opening speech seemed to have all the right words for India and yet he chose to continue his nation’s hardline on Kashmir.

There has been widespread criticism of these elections from political spokespersons and media around the World. He has been criticised as being close to the Taliban. The tell-all book by his former wife Reham Khan trying to rake-up his playboy image, called Imran Khan a “directors actor.” Her book was strategically released just before the election but seemed to have no impact.

India and the rest of the World has to deal with Imran Khan and his backers for the next 5 years. India has cautiously welcomed his win and reiterated their position of making South Asia free of terror and violence.

The two principal opposition leaders and their parties, Nawaz Sharif (PML-N) and Bilawal Bhutto (PPP) have lost out but have managed to garner sufficient seats to be able to provide a strong and credible opposition if they are able to handle their own sets of issues. Both parties have rejected the election results, though the PML(N) has not questioned their victory on the province of Punjab nor has the PPP questioned their majority in Sindh. Their post-election comments should be seen only as political posturing and covering up of the reasons for their failures.

The Pakistani voter has strongly rejected the religious and anti-India rhetoric of Hafiz Sayeed but he and his organisation have not disappeared. Unless he is reined in by the Pakistani Army, which is not likely, he will continue his sabre rattling and his open training of militants against India. The other self-appointed non-playing captain, General Pervez Musharraf, who openly acknowledged his admiration for hafiz Sayeed was threatening to contest the elections is now simply reduced to providing “expert comments” on television and sabre rattling.

What are the implications of Imran Khan’s win for his “Naya (new) Pakistan”?

  1. 1. After a long time, Pakistan has elected a leader who is not corrupt and who has, demonstrated his resilience in fighting the system since he founded the Tehreek-e-Insaf in April 1996. He has been targeted repeatedly on various fronts but has stood his ground to improve governance and root out corruption. Yet, with 115 seats in the 269 member assembly, he needs the support of 15 additional legislators. It would be interesting to see how much these independent legislators will demand as the price for their support and how this will impact on his governance.
  2. He has the blessings of the Pakistani Army and this must be seen as a positive development. The Army has always been either directly in control or been in an antagonistic relationship with the political party. Now that they are, supporting Imran Khan, couched in the cloak of a democratic win, India and the rest of the World has an opportunity to deal directly with the powers behind the throne and not someone who cannot get decisions implemented.
  3. The Pakistani voter is getting restless and is tired of all the religious propaganda. They have been waiting patiently for prosperity promised over the past seven decades since independence. They see the major development in India and are looking for a leader who can deliver economic development for their country as well. Imran Khan has an opportunity to deliver for his backward nation.
  4. The Pakistani economy is bordering on the brink of bankruptcy. The country is saddled with huge debts and does not have the money. The Pakistani Rupee is at its weakest, making the external debt even larger. In June 2018, Pakistan was put back on the terror financing watch list by the Financial Action Task Force (FATF). Imran Khan will need some deft maneuvering to find the money and start work on rebuilding the economy. Unless the economy bounces back and starts creating jobs and wealth, nothing significant can be expected from any politician.
  5. Perceptions about Pakistan in the World are probably at an all-time low. Pakistan has not had a foreign minister for several years. Nawaz Sharif chose to handle this portfolio directly and did a lousy job. Serious confidence building measures are needed to bring some semblance of respectability to the green passport. Continuing its support of terrorists and claiming that Pakistan itself is a victim is no longer acceptable in the corridors of power around the World. Saudi Arabia, towards whom Pakistan always looks up to, has undergone a significant change under the leadership of Crown Prince Sheikh Hamdan bin Mohammed bin Rashid Al Maktoum. If they can change, so can Pakistan.
  6. China, Pakistan’s all weather ally has its own agenda in supporting the China Pakistan Economic Corridor (CPEC) since Chinese exports will get access to the Middle East and Europe without circumventing the time consuming sea journey around Asia. On the other hand, China is also troubled with militancy in its Uighur province which it blames on support for Pakistan. No nation can be completely dependent on another. Pakistan needs to start building strong relationships with India, USA and Russia. Imran Khan recognises this and has mentioned “you take one step and we will take two steps.”
  7. The opposition parties PML(N) and PPP can demonstrate their commitment to their nation by providing checks and balances of a responsible opposition in Parliament and not disrupt the business simply because they must. Between them, they have substantial numbers. Bilawal Bhutto and Maryam Nawaz Sharif are young and have a long time ahead of them in politics. Sitting in opposition can be a great learning experience.

India and the World needs to give Imran Khan a chance to deliver a different model of governance without letting down their guard. A peaceful Pakistan will help in the growth and development of the entire region and the stakes in this success is the highest for Pakistan.

Imran Khan needs to change the narrative in his country. He needs to carry several contradictory views within his nation with the simple promise of development and good governance. For him, the days of adulation are over and the time for brick bats and blame games has arrived.

The common Pakistani citizen is tired and fed-up of the politicians who have repeatedly demonstrated their greed for money and unlimited power and done nothing for the common Pakistani. Imran Khan needs to start communicating directly with the people, much like President Trump and Prime Minister Modi so that his message reaches directly and is not lost in interpretation.

He has no other options.

Besides, this maybe his only chance!

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies. A keen political observer, he is an Angel Investor and Executive Coach. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

Private Sector Babus in Government

181106 Private Sector Babus in Government

The Modi Government has taken another far reaching step in opening up 10 positions of joint secretaries to competent and well qualified individuals from the private and public sector.

Private sector individuals are brought in to top Government jobs in several countries with excellent results. There is no reason why this should not be done in India as well.

The posts advertised are in the areas of financial services, agriculture, economic affairs, revenue, commerce, civil aviation, shipping, climate change and road transport and highway. These positions have so far, been the preserve of individuals who have joined the service through the Union Public Service Commission through competitive examinations.

This move will undoubtedly, result in a serious pushback from the powerful IAS lobby. The message to the IAS should be that these are complementary skills being brought in to supplement the already overburdened bureaucracy. They have largely delivered a reasonably credible work environment and have provided checks and balances in a large country like India.

But the IAS has also had its fair share of challenges, given their need for political patronage to move ahead in their careers.

Senior lawyers have been brought is Attorney Generals at the Central and State levels and politically connected individuals are brought in as diplomats for sensitive countries. While specialised recruitment in the Government exists in the areas of taxation, customs, posts and telegraphs and banking, most other areas are deemed to be the preserve of the IAS officers.

It is assumed that no job is complex or challenging for an IAS officer.

They believe that once they have qualified as an IAS officer, they can move seamlessly from preparing the financial budgets of a state to building roads to developing a credible health plan to managing airports and running airlines. And if they are liked by the political party in power, it does not matter what their prior experience maybe. They can pick any role they want!

The “bureaucracy,” which according to some have kept the wheels of Government functioning despite the political uncertainties, has also been responsible for the ridiculous delays is decision making and for holding back progressive Governments because it does not suit their interests.

The famous British television serial “Yes Minister” and its sequel “Yes Prime Minister” where the politician is merely a puppet in the hands of the mighty bureaucrat exemplifies the dangers of an over powerful bureaucracy!

Let us examine the positives of such a step for our country:

  1. Highly qualified professionals in specialised areas will bring in the much needed skills to sensitive and specialized ministries without relying on the generalist “know all” IAS bureaucrats. The induction of such individuals will also open up many more related skills for the Government from the private sector.
  2. These individuals will bring in fresh thinking and will not carry any baggage from their past roles or from the political masters they have served.
  3. Private sector individuals will be financially more secure and therefore, hopefully, much less prone to corruption and political influence.
  4. Since these individuals will have a fixed three year term, the Government of the day will be able to hold them accountable to deliver on what is expected from them. If they do not perform, their contracts can be terminated and they can be replaced with fresh thinking as opposed to the IAS officer who cannot be fired easily.
  5. The private sector will get a closer look at the functioning of the bureaucracy and this will go a long way in bridging the gaps in understanding of these very different careers.
  6. The shortfall in the numbers of the IAS service can be supplemented through this process.

The Government must ensure that only the most competent are selected into these roles because only strong individuals will be able to stand up to the hundreds of bureaucrats who will surround them once they start work. The vetting process must be done meticulously. Only the best and the brightest must be brought in. Support must be given by the political masters to ensure that this experiment does not fail because no political party will be able to push this through again if this does not work.

Retired Government officials have found lucrative jobs in the private sector and some of delivered excellent results. The reverse opportunity has now been made available.

Only 10 positions have been opened up and if this works, more spots can be made available. It should not become the subject of endless debates in Parliament and a rallying cry for the disjointed opposition.

The challenges faced by the first few batches of such lateral recruits will be significant. Individuals who put their hand up for this service will be stepping onto an unfamiliar turf at significantly lower salaries. Their superiors, peers and subordinates from the IAS and related services will do everything in their power to ensure that they fail. Therefore, in order to make this succeed, they must get the support of the Government.

This cross pollination will help the country in bringing about the much needed mix of different skill sets in different roles.

This is a welcome step and must be supported.

*******************

The author is the founder Chairman of Guardian Pharmacies. A keen political observer, he is an Angel Investor and Executive Coach. He is the author of 5 best-selling books, Reboot. Reinvent. Rewire: Managing Retirement in the 21st Century; The Corner Office; An Eye for an Eye; The Buck Stops Here – Learnings of a #Startup Entrepreneur and The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur.

  • Twitter: @gargashutosh
  • Instagram: ashutoshgarg56
  • Blog: ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com

 

 

मोदी सरकार के 4 साल, 7.7% विकास, उप-चुनावों में हार

180603 Marcus Aurelius

राजनीति में यह कड़े विरोधाभासों से भरा दिलचस्प सप्ताह रहा।

सभी उदार अर्थशास्त्री और विपक्षी नेताओं के लिए हैरत की बात है जो विमुद्रीकरण और जीएसटी के कार्यान्वयन को घोर प्रलय करार दे रहे थे, जबकि अर्थव्यवस्था ने 7.7% के प्रभावशाली विकास आँकड़ों के साथ वापसी की। यह विकास दर केवल इसकी अग्र-दूत की तरह है कि आने वाले वर्षों में हमें आर्थिक विकास से क्या अपेक्षा है।

यह वह सप्ताह भी था जब मोदी सरकार ने घटनाओं से भरे और सफल 4 वर्षों को पूरा किया था। भले ही ‘कुछ भी नहीं हो रहा’, ऐसा कहने वालों और ‘प्रलय आ गया’ की भविष्यवाणी करने वालों की नज़र में भारत में कुछ भी अच्छा नहीं हुआ और राहुल गाँधी ने बिना एक भी बार यह सोचे कि अपने पक्ष के नेता के रूप में उन्होंने कैसा प्रदर्शन किया हर बात पर ‘असफल’ का निशान लगा दिया।

आखिरकार, बहुप्रतीक्षित उप-चुनाव जो आम चुनावों में होने वाली संभावनाओं के संकेत माने जाते हैं, उनसे वे रास्ते निकलकर नहीं आएँ जिनकी सत्तारूढ़ दल ने उम्मीद की थी। भाजपा को हराने के प्राथमिक उद्देश्य से विरोधी पक्षों का पंचमेल समूह चुनाव मंच पर एक साथ आकर जीत हासिल करने में सफल रहा और उम्मीद है इससे शक्तिशाली भाजपा को शांति से बैठकर मनन करने में मदद मिलेगी।

चुनावों से एक दिन पहले ईंधन की कीमतों में  आई एक पैसे की कमी को सभी मीडिया चैनलों द्वारा गलत तरीके से दिखाया गया। हम सभी जानते हैं कि मतदान से एक रात पहले 20% से अधिक मतदाताओं को आह्वान होता है और इस 1 पैसे की कमी को लेकर हास्यास्पद वाग्मिता का परिचय देते हुए सबसे प्रतिबद्ध भाजपा मतदाता के दिल-दिमाग और शायद बटुओं पर घर बैठे मानो हमला किया जाता है। हैरानी तो इस बात को लेकर होती है कि पेट्रोलियम मंत्रालय ने ऐसा होने की अनुमति ही क्यों दी? क्या किसी ने भाजपा के विरोध में कोई छाप छोड़ने के लिए ऐसा किया था? यदि हाँ, तो वह सफल हुआ।

जबकि सकारात्मक बात तो यह है कि, व्यवसाय अच्छी तरह से चल रहे हैं, ग्रामीण आय में वृद्धि हुई है, कारखानों में अधिक उत्पादन हो रहा है, भ्रष्टाचार कम हुआ है, अच्छे मानसून के संकेत मिल रहे हैं, नौकरियों का सृजन हो रहा है, जीएसटी की सफलता के साथ और भी बहुत कुछ देखा जा सकता है। भारत ने विदेशी मुद्रा भंडार का रिकॉर्ड बनाया है और देश का कद ऊँचा उठा है और विश्व नेता के रूप में वह खड़ा है।

मोदी सरकार की उपलब्धियों के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है और आने वाले वर्षों में लिखा जाता रहेगा, मुझे, जो सभी के लिए पहले से देखने, पढ़ने और अनुभव करने के लिए खुले तौर पर मौजूद है, उसे पुन: व्यवस्थित करना है। ये बिना

तो भाजपा और उसके कार्यकर्ताओं को इन घटनाओं से कौन-से सबक लेने की जरूरत हैं?

  1. भाजपा की बहुत प्रभावी संचार मशीन अब क्लांत हो रही है और प्रवक्ताओं ने 4 साल पहले जिन आख्यानों को शुरू किया था, वे अब विश्वासप्रद नहीं रहे हैं, मुख्य रूप से इसलिए क्योंकि उनके संदेशों में बदलाव नहीं हुआ है। इसे बदलना ही होगा और ताजा संदेशों के साथ ताजा चेहरों को आगे लाना होगा। मंत्रियों को छोटे पर्दे की बहसों में वापस शामिल होने की ज़रूरत है, उनके निर्विकार रहने से काम नहीं चलेगा।

ईंधन की कीमतों, किसानों के सड़कों पर दूध और सब्जियाँ फेंकने, कश्मीर के मुद्दों आदि जैसे संवेदनशील विषयों पर तेजी से प्रतिक्रिया देने के बजाय, भाजपा प्रवक्ता बस इन कार्यों को तर्कसंगत बनाने और औचित्य सिद्ध करने की कोशिश कर रहे हैं जिससे वे खुद ही विपक्षी नेताओं को अनावश्यक हंगामा खड़ा करने के लिए गोला-बारूद का जखीरा दे रहे हैं।

प्रतिक्रियाएँ तत्काल और सक्रिय होना चाहिए। न कि समाचार पत्रों द्वारा किसी बात को उठाए जाने और उस पर बहुत शोर हो जाने के बाद।

  1. साफ़ है कि प्रधान मंत्री बनने के आकांक्षी कम से कम पाँच उम्मीदवारों के नेतृत्व में विरोधी दल आधे सच और झूठ के आधार पर टिकी कहानियों में फेर-फार करते हुए लगातार और काफी निष्ठुरता से हमले बोल रहे हैं। भाजपा प्रवक्ताओं के अनजानेपन को पकड़ा गया है। उन्हें “उस समय भी यही हुआ” की बात करते रहने के बजाय सक्रिय प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है।

यूपीए के मठाधीश पूर्व मंत्रियों ने इस बात को प्रमाणित किया कि ईंधन की कीमतों में 25 रुपये प्रति लीटर की कमी की संभावना है, लेकिन वे इस पर अजीब तरीके से चुप रहते हैं कि जब वे सत्ता में थे उन्होंने इस शक्ति का प्रयोग क्यों नहीं किया?

  1. भगवान राम के समय मौजूद सभी प्रौद्योगिकियों को लेकर कुछ भाजपा मंत्रियों की तीखी और कर्कश आवाज मतदाताओं के एक बहुत बड़े वर्ग को अपने पक्ष में नहीं कर पा रही है। ये लोग चुपचाप अपना मुँह बंद क्यों नहीं रख सकते हैं या प्रेस के लोगों के सामने अपनी संवाद करने की बुद्धि का प्रदर्शन करने की आवश्यकता का उपयोग करना बंद क्यों नहीं कर देते, जो स्पष्ट रूप से उपलब्धियों से दूर करने के लिए “मसाला” कथानक ढूँढने की बाइट्स की तलाश में हैं?

अगर हिंदुत्व को मंच बनाना है, जो मुझे तो नहीं लगता है, तो दल को हर किसी के लिए कुछ करने की कोशिश करने के बजाय स्पष्ट रूप से सामने आने और ऐसा कहने की जरूरत है।

  1. भ्रष्टाचार एक और बड़ा मुद्दा है जिस पर मतदाता ने निर्णायक और निवारक कार्रवाई देखने की उम्मीद की थी। सत्ता में आने के 4 साल बाद विपक्षी दल बड़ी सफलता से अपने पापों को भाजपा के मत्थे मढ़ रहे हैं। गैर-निष्पादित संपत्ति – एनपीए। यूपीए के वर्षों में नीरव मोदी, माल्या और भी बहुत सारे लोग हुए लेकिन भाजपा अपनी स्थिति समझा रही है।

भाजपा को त्वरित कार्रवाई शुरू करने की जरूरत है जो दिखाई दे और साथ ही साथ यह सुनिश्चित करना होगा कि विपक्षी नेताओं के पास राजनीतिक प्रतिशोध को लेकर शोर मचाने के कोई आसार न रहे। मलेशिया में, प्रधान मंत्री महातिर मोहम्मद ने पदभार संभालने के कुछ ही दिनों के भीतर अपने पूर्वजों को देश छोड़ने से रोक दिया।

  1. किसान परेशान हैं और दलितों को लगने लगा है कि उन्हें अनदेखा किया जा रहा है। हालाँकि भाजपा ने किसानों और दलितों के लिए अन्य सरकारों की तुलना में काफी कुछ किया है, भाजपा से होने वाले संवाद को बदलना होगा और इन निर्वाचन क्षेत्रों तक स्पष्ट और संक्षेप संदेश पहुँचाना चाहिए।

कोई मतदाता इन विरोधी पक्षों को शायद ही स्वीकार कर सकता है, जैसे पश्चिम बंगाल में टीएमसी और सीपीआईएम, उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा, तमिलनाडु में एआईडीएमके और डीएमके, दिल्ली में आप और काँग्रेस, कर्नाटक में जेडीएस और काँग्रेस किसी भी मंच पर कभी भी एक साथ आ सकते हैं। फिर उत्तर प्रदेश में आरएलडी जैसे अल्पसंख्यक पक्ष हैं जो पूर्ण लाभ ले रहे हैं। इन पक्षों के हमेशा अलग-अलग मंच होते हैं और वे हमेशा एक दूसरे का विरोध करते रहते हैं।

मुझे नहीं लगता कि कोई भी नेकनीयत और सही सोच का मतदाता आज महागठबंधन से एक नेता पेश करने की उम्मीद कर सकता है। कोई भी अकेला व्यक्ति अन्य राजनीतिक दलों को स्वीकार्य नहीं होगा और इसे वे जानते हैं। क्या वे किसी आम मंच पर लड़ेंगे? उनके चुनाव घोषणापत्र कैसे होंगे? अर्थव्यवस्था या शासन या वित्तीय मामलों के साथ कुछ भी करने पर वे कैसे सहमत हो सकते हैं जबकि वे किसी भी चीज़ पर सहमत नहीं होते हैं? यदि वे किसी तरह बहुमत के साथ अगले वर्ष किसी तरह परिमार्जन करने का प्रबंधन कर लेते हैं, तो अराजकता या विघटनकारी स्थितियाँ चरम पर होंगी।

लेकिन “भाजपा विरोधी” पार्टियों का राष्ट्रव्यापी गठबंधन तब एक विश्वसनीय विकल्प बन जाता है जब एकल सबसे बड़ी सत्तारूढ़ पार्टी से जो अपेक्षा की जाती है, उस पर ध्यान नहीं देती। स्वच्छता के प्रति मानसिकता बदलने के लिए कड़ी मशक्कत की ज़रूरत है और भ्रष्टाचार मुक्त समाज की ओर बढ़ने के लिए लगातार काम करने की ज़रूरत है यदि यह हमारे डीएनए में बैठ गया है। हम विवादित नेताओं के भ्रष्ट समूह की ओर वापस पीछे नहीं जा सकते हैं।

अगले चुनावों के लिए उलटी गिनती शुरू हो गई है। विपक्षी दलों ने भी साथ मिलकर सोशल मीडिया पर अपना काम शुरू कर दिया है और भाजपा के सोशल मीडिया गुरुओं की तुलना में तेजी से हमला कर रहे हैं और प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

 वे ऐसा कर रहे हैं जैसे अगर उनकी निष्क्रियता के कारण भाजपा इन चुनावों में हारी तो यह उनके लिए शर्म की बात होगी। देश को स्थिरता की ज़रूरत है और प्रधान मंत्री मोदी के पास बहुत महत्वपूर्ण और ठोस संरचनात्मक परिवर्तन करने का साहस है, जो आने वाले सालों में बहुत समृद्ध लाभांश का भुगतान करेगा।

श्री मोदी कम से कम एक और कार्यकाल प्राप्त करने के हकदार हैं क्योंकि अब तक सुधारों के माध्यम से बहुत कम परिवर्तन देखा गया है, ताकि अगले दो दशकों तक भारत को अपरिवर्तनीय रूप से उच्च विकास के मार्ग पर रखा जा सके। केवल निरंतर सुधार ही भारत के लोगों के जीवन मानकों के विकास में मदद कर सकते हैं। अगर मोदी को सत्ता में वापस नहीं भेजा जाता है, तो भारत हार जाएगा।

जो लोग सिंगापुर गए हैं, वे हमेशा कहते हैं कि भारत को ली कुआन यू की जरूरत है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी में, हमें वह मजबूत, ईमानदार और मेहनती नेता मिला है जो कठिन निर्णय लेने से नहीं हिचकता और जिसने दुनिया में भारत को उसका सही स्थान दिलवाया है।

*******************

लेखक गार्डियन फार्मेसीज के संस्थापक अध्यक्ष हैं. वे ५ बेस्ट सेलर पुस्तकों – रीबूट- Reboot. रीइंवेन्ट Reinvent. रीवाईर Rewire: 21वीं सदी में सेवानिवृत्ति का प्रबंधन, Managing Retirement in the 21st Century; द कॉर्नर ऑफ़िस, The Corner Office; एन आई फ़ार एन आई An Eye for an Eye; द बक स्टॉप्स हीयर- The Buck Stops Here – लर्निंग ऑफ़ अ # स्टार्टअप आंतरप्रेनर और Learnings of a #Startup Entrepreneur and द बक स्टॉप्स हीयर- माय जर्नी फ़्राम अ मैनेजर टू ऐन आंतरप्रेनर, The Buck Stops Here – My Journey from a Manager to an Entrepreneur. के लेखक हैं।

  • ट्विटर : @gargashutosh                                                     
  • इंस्टाग्राम : ashutoshgarg56                                                               
  • ब्लॉग : ashutoshgargin.wordpress.com | ashutoshgarg56.blogspot.com